2018 को लेकर की गई नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी हो सकती है सच?

Get Daily Updates In Email

अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच लगातार बिगड़ते संबंध को देखते हुए आज लोगों को नास्त्रेदमस की कही बातें याद आ रही है, जिसकी भविष्यवाणी वह पहले ही कर चुके हैं. वह भी उस समय जब दुनिया पर फ़्रांस का राज हुआ करता था. उस समय उन्होंने अपनी कविताओं के जरिए कई भविष्यवाणी की थी, जिसमें से तो कई सच भी हो गई हैं. अब 2018 को लेकर कही गई भविष्यवाणी भी सच होती दिख रही है, जो काफी डरावनी है और जिसको सुनते ही रूह कांप जाती है. यदि उनकी यह भविष्यवाणी सच होती है दुनिया में कई देशों का नाम ही मिट जाएगा.

courtesy 

फ़्रांस के जाने-माने भविष्य वक्ता नास्त्रेदमस का जन्म 14 दिसंबर 1503 में हुआ था, वह भी फ्रांस के एक छोटे से गांव में. वह इतने बड़े विद्वान् थे कि उन्होंने 16 शताब्दी में कई कविताएँ लिखी. इन कविताओं के जरिए दुनिया के भविष्य के बारे में कई भविष्यवाणियां की. नास्त्रेदमस की लिखी हुई कई भविष्यवाणियां बिल्कुल सटिक साबित हुई हैं.

courtesy 

आपको बता दें कि नास्त्रेदमस द्वारा लिखी गई किताब ‘द प्रोफेसीज’ में तीसरे विश्व युद्ध की बात कही गई है. यदि नास्त्रेदमस की बात को मान लिया जाए तो तीसरा विश्व युद्ध केवल दो और दो से ज्यादा देशों बीच में नहीं, बल्कि दो दिशाओं के बीच में  होगा. वहीँ जानकारों की मानें तो अमेरिका और कोरिया में युद्ध छिड़ सकता है.

courtesy 

नास्त्रेदमस के अनुसार, 2018 में मृत आत्माएं अपनी कब्र से बाहर आ जाएगी और दुनिया में काफी उथल-पुथल मचेगी. उन्होंने 2018 में कई प्राकृतिक आपदाओं की भी भविष्यवाणी की है. भविष्यवाणी की मानें तो, आदमी-आदमी को मारेंगे और युद्ध की समाप्ति के बाद कुछ लोग ही शांति का आनंद उठाने के लिए बचेंगे. आसमान से उड़ती हुई आग की गेंदे गिरेंगी और लोग कुछ नहीं कर पाएँगे. उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के लगातार परमाणु परीक्षणों से लगातार इस बात का डर बना ही हुआ है.

courtesy 

बताया जाता है कि उनकी जो भविष्यवाणियां अब तक सच हुई हैं उनमें द्वितीय विश्व युद्ध, परमाणु बम, अमेरिका में 9/11 आतंकी हमला और हिटलर के उदय हैं. जिसकी उन्होंने पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी. उनके समय का एक बहुत अच्छा किस्सा है जिसमें नास्त्रेदमस के पास एक नौजवान युवक आता है तो उनका उन्होंने झुककर अभिनंदन किया. जब उनसे ऐसा करने का कारण पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह शख्स आगे चलकर पोप बनेगा और यह सच भी हुआ. वह ही युवक आगे चलकर 1558 में पोप बना.

Published by Tarun Rathore on 14 Nov 2017

Related Articles

Latest Articles