ब्रह्मांड के रहस्‍यों को बताने वाले मशहूर वैज्ञानिक स्‍टीफन हॉकिंग का निधन

Get Daily Updates In Email

ब्रह्मांड के रहस्‍यों के बारे में बताने वाले मशहूर वैज्ञानिक स्‍टीफन हॉकिंग का निधन हो गया है. बता दें कि हॉकिंग की उम्र 76 वर्ष थी. हॉकिंग के निधन के बारे में जानकारी उनके परिवार के ही एक प्रवक्ता ने दी है. स्टीफन हॉकिंग के निधन पर उनके बच्चों लूसी, रॉबर्ट और टिम का कहना है कि, “हम अपने पिता के जाने से बेहद दुखी हैं'”. जानकारी मिली है कि हॉकिंग का निधन लंदन के कैम्ब्रिज में उनके घर पर ही हुआ.

गौरतलब है कि ब्लैक होल और बिग बैंग सिद्धांत को समझने में हॉकिंग ने अपना योगदान दिया है. इसके अलावा हॉकिंग को 12 मानद डिग्रियां भी मिली हैं. स्टीफन के कार्यों को ध्यान में रखते हुए उनके अमेरिका के सबसे उच्च नागरिक सम्मान से भी नवाजा जा चुका है.

स्टीफन हॉकिंग का जन्म 8 जनवरी 1942 को फ्रेंक और इसाबेल हॉकिंग के घर में हुआ था. स्टीफन के परिवार की माली हालत ठीक नहीं थी, इसके बाद भी उनके माता-पिता की शिक्षा ऑक्‍सफोर्ड विश्‍वविद्यालय से हुई. यहाँ उनके पिता फ्रेंक ने आयुर्विज्ञान की शिक्षा ली और माता इसाबेल ने दर्शनशास्त्र, राजनीति और अर्थशास्त्र का अध्ययन किया.

स्टीफन एक महान वैज्ञानिक रहे. उन्होंने कुछ समय पहले ही बिगबैंग के पहले विश्व की हालत के बारे में भी सभी को कुछ बताया था, जिसके बारे में जानकर सभी वैज्ञानिक हैरान रह गए. कहा गया कि स्टीफन ने दुनिया को वह राज बताया है जिसके बारे में सब बरसों से जानने के लिए उत्सुक थे.

स्टीफन हॉकिंग ने 1974 में ब्लैक होल्स पर असाधारण रिसर्च की और उसकी थ्योरी को ही बदल कर रख दिया, इसके चलते उन्हें साइंस की दुनिया का सेलेब्रिटी भी कहा जाता है. स्टीफन हॉकिंग को लेकर यह बात वाकई में हैरान करने वाली है कि उनके दिमाग के अलावा शरीर का कोई भी भाग काम नहीं करता था. स्टीफन के द्वारा द ग्रैंड डिजाइन, यूनिवर्स इन नटशेल, माई ब्रीफ हिस्ट्री, द थ्योरी ऑफ एवरीथिंग जैसी कई महत्वपूर्ण किताबें लिखी जा चुकी हैं.

Published by Hitesh Songara on 14 Mar 2018

Related Articles

Latest Articles