दिल्ली में नहीं चलेंगे 15 साल पुराने वाहन, विभाग ने 2 लाख वाहनों को ‘बेकार’ की श्रेणी में डाला

Get Daily Updates In Email

अब नहीं चल सकेंगे दिल्ली में 15 साल पुराने वाहन…जी हाँ! आप ने बिल्कुल सही सुना है. दरअसल हाल ही में देश की राजधानी दिल्ली में परिवहन विभाग ने 15 साल पुराने करीब दो लाख वाहनों को ‘बेकार’ की श्रेणी में डालने का निर्णय लिया है. यह निर्णय परिवहन विभाग ने प्रदूषण से पूरी राजधानी को बचाने के चलते लिया है. विभाग का मनाना है कि इन वाहनों से काफी ज्यादा प्रदूषण हो रहा है.

इन निर्णय पर सख्त कार्यवाही करते हुए विभाग ने प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों के खिलाफ बड़ा अभियान शुरू कर दिया है. इस अभियान के तहत इन वाहनों को डी-रजिस्टर किया जा रहा है. चौंकाने वाली बात तो यह है कि ऐसे वाहन को कोई भी व्यक्ति सार्वजनिक स्थान पर पार्क नहीं कर सकता है. अगर कोई व्यक्ति ऐसे वाहनों को सार्वजनिक स्थान पर पार्क करता है तो वाहन को तुरंत जब्त कर लिया जाएगा. साथ ही वाहन स्वामी को वापस करने के बजाय इस वाहन को कबाड़ में काटने के लिए भेज दिया जाएगा.

View this post on Instagram

#freeFlowFi #trafficDelhi

A post shared by Freeflowfi Travel Imagineer (@freeflowfi) on

वाहन स्वामी चाहे तो अपनी मर्जी से खुद अपने वाहन को स्क्रैप करा सकते हैं.  इस से वाहन स्वामी को फयदा यह होगा कि वह स्क्रैप के दाम को लेकर मोलभाव भी कर सकता है लेकिन अगर वाहन विभाग ने आपका वाहन जब्त किया तो फिर आप मोलभाव भी नहीं करा पाएंगे. फिर जितने दाम में आपका वाहन कबाड़ में कट रहा होगा उतने में ही कट जाएगा. वैसे भी वाहन विभाग ने 24 अगस्त को ही स्क्रैप पॉलिसी अधिसूचित कर दी थी.

अगर आप खुद अपने वाहन को स्क्रैप कराने जा रहे तो याद रहे कि स्क्रैप करने वाले स्क्रैपर से वाहन स्क्रैप होने के बाद वाहन का पंजीकरण प्रमाण पत्र (आरसी), वाहन का चेसिस नंबर वाला प्लेट और स्क्रैपर की ओर से दिया जाने वाला प्रमाण पत्र लेना बिल्कुल भी न भूलें. ये तीनों प्रमाण पत्र की फोटो कॉपी एमएलओ ऑफिस में जाकर जमा करें. ताकि परिवहन विभाग आपके वाहन का पंजीकरण नंबर नष्ट कर सके. इसके बाद अगर आपका वाहन सड़क पर चलता है तो वह अवैध माना जाता है.

Published by Lakhan Sen on 10 Oct 2018

Related Articles

Latest Articles