पुणे के दो लोगों ने पुरानी बसों से बनाए लेडीज टॉयलेट, महिलाओं को मिल रही काफी मदद

Get Daily Updates In Email

स्वच्छ सर्वेक्षण अभियान की वजह से देश में लगभग सभी लोग स्वच्छता को लेकर जागरूक हो चुके हैं. उन्हें यह समझ आने लगा है कि हमारे देश और हमारे शहर को स्वच्छ रखना हमारी ही जिम्मेदारी है. जगह-जगह अब हमें कचरा डालने के लिए कूड़ादान और टॉयलेट्स दिखाई देते हैं. यहां हम आपको 2 ऐसे शख्सों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने पुरानी बसों का इस्तेमाल करके लेडीज टॉयलेट बनाया है. जी हां, आपने सही पढ़ा यह सच है. यह काबिले तारीफ काम करने वाले शख्स पुणे के रहने वाले हैं जिनका नाम है उल्का सादलकर और राजीव खेर.

Courtesy 

इन दोनों ने मिलकर पुणे नगर निगम की पुरानी बसों को लेडीज टॉयलेट्स में तब्दील किया है. वैसे स्वच्छ भारत के हिसाब से यह काम काबिले तारीफ़ है. आपको बता दें कि उल्का और राजीव ने इन टॉयलेट्स का नाम दिया है ‘ती’. बता दें कि मराठी भाषा में ‘ती’ शब्द महिलाओं के लिए इस्तेमाल किया जाता है. बात करें बसों में बनाई गई टॉयलेट्स की तो इसमें वेस्टर्न और इंडियन दोनों स्टाइल के टॉयलेट बनाए गए हैं. इसके अलावा इसमें वॉशबेसिन और बच्चों के डायपर बदलने के लिए भी जगह बनाई गई है. इन बसों में काफी कम कीमतों पर सैनेटरी नैपकीन भी बेचे जाते हैं.किसी भी महिला को इस टॉयलेट को यूज़ करने के लिए 5 रुपए देने होंगे. वैसे कंपनी यह शुल्क नहीं लेना चाहती थी लेकिन आर्थिक कारणों की वजह से उन्हें यह शुल्क लेना पड़ा.

Courtesy 

बताते चलें ये बसें सोलर एनर्जी से चलती हैं और हर बस के लिए एक महिला कर्मचारी भी रखी गई है और लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए बस में टीवी भी लगाए गए हैं. इन Entrepreneurs ने अपनी कंपनी का नाम Saraplast रखा है जो कि साल 2016 से ऐसे टॉयलेट बना रही है. अभी तक कंपनी के पास ऐसे 11 टॉयलेट्स हैं और ये सभी महिलाओं द्वारा खूब पसंद किए जा रहे हैं.

Courtesy 

इस प्रेरणास्पद काम करने के पीछे के आईडिया के बारे में उल्का सादलकर ने बताया कि हमने पढ़ा था कि पुरानी बसों को बेघरों के लिए घर बनाने के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है. इसी कॉन्सेप्ट को हमने महिला टॉयलेट के लिए इस्तेमाल किया क्योंकि हमारे देश में महिला टॉयलेट एक बड़ी समस्या है. बताते चलें कि यह कंपनी इवेंट्स के लिए मोबाइल टॉयलेट भी अवेलेबल करवाती है.

Published by Chanchala Verma on 05 Jan 2019

Related Articles

Latest Articles