भारत की आज़ादी का दिन क्यों तय हुआ 15 अगस्त, जानिए आखिर किसने तय की थी यह तारीख

Get Daily Updates In Email

हमारे देश को आजाद हुए इस 15 अगस्त को 73 वर्ष हो रहे हैं. इन 73 वर्ष में आपने देश की आजादी से जुड़े कई किस्से सुने भी होंगे. लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि आखिर क्यों भारत की आजादी का दिन 15 अगस्त तय हुआ? ये दिन किसने तय किया? चलिए हम बताते हैं कि आखिर किसने भारत की आजादी का दिन 15 अगस्त तय किया था.

courtesy

भारत कब आजाद होगा इस बात की जानकारी तब से करीब ढाई महीने पहले ही लग गई थी. दरअसल 15 अगस्त के करीब ढाई महीने पहले ही लॉर्ड माउंटबेटन महात्मा गांधी को भारत के बंटवारे के लिए मना चुके थे. इसके बाद लॉर्ड माउंटबेटन ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर यह बताया था कि आखिर कैसे भारत और पाकिस्तान को बांटा जाएगा.  इसी बीच एक पत्रकार ने लॉर्ड माउंटबेटन से यह पूछा कि, “जब आप अभी से भारत को सत्ता सौपें जाने वाले समय तक के कार्यों में तेजी लाने की बात कर रहे हैं तो क्या आपने वो तिथि तय की है जब भारत सत्ता सौपीं जाएगी?” ये सवाल सुनकर माउंटबेटन भी थोड़ा हिचकिचा गए, और उन्होंने कहा, “हां यकीनन ये दिन तय हो गया है.” इसके बाद जब पत्रकार ने पूछा कि “आखिर वह दिन है कौनसा”? तो माउंटबेटन ने कोई भी जवाब नहीं दिया, क्योंकि उस वक्त उनके पास कोई भी तारीख तय नहीं थी.

courtesy

ऐसे में पूरे सभागार में बैठे लोग यही जानने को बेताब थे कि आखिर वह कौन सी तारीख है जब भारत आजाद होने वाला है. लेकिन चौंकाने वाली बात तो यह थी कि, जैसे ही जब माउंटबेटन से यह प्रश्न किया गया था तब उनके दिमाग में कई तिथियां चलने लगी थीं. इसके बाद उन्होंने 15 अगस्त तिथि को मन में ही विचार कर लिया था. इसके बाद उन्होंने सभागार में बैठे लोगों को इस तिथि के बारे में बताया था.

courtesy

तिथि बताते हुए लॉर्ड माउंटबेटन ने बड़े उत्साह से कहा था, “मैंने तिथि तय कर ली है और ये तिथि है 15 अगस्त 1947”. इसी के साथ वह दिन तय हो जाता है जब भारत को अंग्रेजों की सैकड़ों साल की गुलामी से आजादी मिलने वाली होती है.

courtesy

जब इस तिथि के बारे में देश के ज्योतिषियों को पता चला तो उन्होंने इस तिथि का कड़ा विरोध किया था. दरअसल 15 अगस्त को शुक्रवार था और ज्योतिषियों का मानना था कि यदि इस दिन भारत आजाद होता है तो कोहराम मच जाएगा. कलकत्ता के एक महान संत ने तो लॉर्ड माउंटबेटन को चिट्ठी लिख तिथि बदलने तक की बात कही थी. लेकिन लॉर्ड माउंटबेटन इस तिथि में कोई बदलाव नहीं किया और इस तरह से आखिरकार 15 अगस्त को भारत को स्वतंत्रता प्राप्त हुई.

Published by Lakhan Sen on 13 Aug 2019

Related Articles

Latest Articles