जयपुर और जोधपुर बने देश के सबसे स्वच्छ रेलवे स्टेशन, राजस्थान के 7 स्टेशनों ने जमाया कब्जा

Get Daily Updates In Email

रेलवे ने बुधवार को 720 स्टेशनों की स्वच्छता सर्वे रेंकिंग जारी की है. इसमें राजस्थान की राजधानी जयपुर के रेलवे स्टेशन को पहला स्थान मिला है. दूसरे नंबर पर जोधपुर और तीसरे नंबर पर जयपुर जिले का दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन है. खास बात यह है कि टॉप थ्री में जहां तीनों स्टेशन राजस्थान के हैं. वहीं, टॉप टेन में भी राजस्थान के 7 स्टेशनों ने कब्जा जमाया है. पिछले साल की रैंकिंग में जोधपुर पहले जबकि जयपुर दूसरे पायदान पर था.

View this post on Instagram

Jaipur Jn, Jodhpur and Durgapura Jaipur are the top three ranking railway stations according to the Station Cleanliness Survey 2019 conducted by the Indian Railways. #udaipur Ranks on 8th and #ajmer ranks on 9th. A total of 720 stations were ranked based on different parameters. .. Follow @localsamosa to know your city more. .. Use #localsamosa to get featured! .. #jaipurrailwaystation #jodhpurrailwaystation #udaipurrailwaystation #ajmerrailwaystation #jaipur #jaipurcity #pinkcity #rajasthan_dairies #jaipurfashion #rajasthandairies #rajasthan_tourism #rajasthan #jaipurcity #jaipurdiaries #jaipurtalks #jaipurlove #pinkcity #jaipurpinkcity #rajasthan #rajasthandairies #jodhpur #jaipurblogger #jaipurlove #jaipurpinkcity #jaipurgram #jaipurfood #jaipurinsta #instajaipur #jaipurnews

A post shared by Local Samosa (@localsamosa) on

जयपुर और जोधपुर के बीच मात्र 4.56 अंक का अंतर रहा. पता चला है कि जयपुर को कुल मिलाकर 931.75 व जोधपुर को 927.19 अंक मिले. हालांकि सिटीजन फीडबैक में जोधपुर ने जयपुर के 332.15 की अपेक्षा 332.23 अंक हासिल किए. लेकिन जोधपुर प्रोसेस एव्यूलेशन में चार अंक से पिछड़ गया और इसी कारण जोधपुर देश भर में अपने पहले नंबर की रैंक गंवा बैठा.

प्रोसेस एव्यूलेशन में यह देखा जाता है कि रेलवे स्टेशन पर सफाई की क्या आधारभूत सुविधाएं हैं और इनका किस तरह से उपयोग किया जा रहा है. स्वच्छता रैंकिंग के लिए रेल मंत्रालय की ओर से क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया का गठन किया था. टीम ने रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म से लेकर स्टॉल, रेलवे ट्रैक, स्टेशन परिसर, रिजर्वेशन काउंटर एवं टिकट काउंटर की सफाई को जांचा था.

पिछले कुछ समय से राजस्थान के जयपुर और जोधपुर स्टेशन की साफ-सफाई जोरों से की जा रही थी. स्वच्छता की यह मुहिम आखिरकार रंग लाई और इन दोनों स्टेशनों के नाम आज हर किसी की जुबान पर हैं. इससे प्रदेश के लोग गौरान्वित हैं. रेल मंत्रालय ने साल 2016 में 407 रेलवे स्टेशनों का थर्ड पार्टी ऑडिट और स्वच्छता रैंकिंग जारी की थी. इस साल की रैंकिंग में रेलवे स्टेशनों की संख्या को बढ़ा दिया गया. इस साल सर्वेक्षण में 720 स्टेशनों को शामिल किया गया था और उपनगरीय स्टेशनों को भी पहली बार शामिल किया गया था.

View this post on Instagram

Jodhpur Railway Station 🚂 Jodhpur railway station was opened in 1885 under the jurisdiction of New Jodhpur Railway. The first train ran from Jodhpur to Luni on 9 March 1885. The New Jodhpur Railway was later combined with Bikaner Railway to form Jodhpur-Bikaner Railway in 1889. A Railway line was completed between Jodhpur and Bikaner in 1891. Later in 1900, It combined with Jodhpur-Hyderabad Railway (some part of this railway is in Pakistan) leading to connection with Hyderabad of Sindh Province. Later in 1924 Jodhpur and Bikaner Railways worked as independent Railways. After Independence, a part of Jodhpur Railway went to West Pakistan.(And Mein Point Is Jodhpur Railway Station And Workshop 1917 To 1956 Under The ShivNath Ji Bhakrecha And First Men In India And Built 5 Number Osi Coach More Coaches And ShivNath Ji Is Very Powerful Men.) #jodhpur #jodhpurrailwaystation #indianrailways #incredibleindia #incrediblejodhpur #beautifuljodhpur #northernwesternrailway #beautifulindia #railway #railwaystation #railwayjunction #jodhpurjunction #heritage #beautiful #architect #amazingplace#india #jodhpur #bluecityjodhpur #incredibleindia #incrediblerajasthan #incrediblejodhpur #royaljodhpur #blueheavenjodhpur #Jodhpur💙 #beautifuljodhpur #suncityjodhpur #bluecityofindiajodhpur. #insta_jodhpur #instajodhpur #Jodhpurite #jodhpurdiaries #instapic #i❤jodhpur

A post shared by JODHPUR 🇮🇳 (@insta_jodhpur) on

स्वच्छता के आधार पर रेलवे ने अपने 17 जोन की भी रैंकिंग तैयार की है. इसमें उत्तर पश्चिम रेलवे टॉप पर रहा है. जबकि दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे दूसरे और पूर्व मध्य रेलवे तीसरे स्थान पर रहा है.

Published by Yash Sharma on 04 Oct 2019

Related Articles

Latest Articles