फिल्म रिव्यू: ‘टॉरेट सिंड्रोम’ बीमारी से लड़ती एक स्कूल टीचर की कहानी है ‘हिचकी’

Get Daily Updates In Email

बॉलीवुड अभिनेत्री रानी मुखर्जी को पिछले कुछ दिनों से अपनी फिल्म ‘हिचकी’ को लेकर काफी सुर्खियों में देखा जा रहा है. कभी वे किसी प्रोग्राम में अपनी फिल्म के प्रमोशन के लिए शिरकत करती नजर आ रही हैं तो कभी कहीं और. इसके साथ ही उनकी फिल्म का इंतजार भी लोगों में बढ़ रहा था जो आज सुबह के साथ ही खत्म हुआ है. जी हाँ, आज रानी मुखर्जी की फिल्म ‘हिचकी’ बॉक्स ऑफिस पर रिलीज हो गई है. रानी के फैंस के साथ ही अन्य लोगों में भी फिल्म को लेकर काफी उत्सुकता देखने को मिली है.

गौरतलब है कि यह रानी की माँ बनने के बाद की पहली फिल्म है. इससे पहले हमने रानी को 2014 में फिल्म ‘मर्दानी’ में देखा था. इस फिल्म में उनकी एक्टिंग को काफी पसंद भी किया गया था. फिल्म के रिलीज होने के बाद ही रानी ने यशराज फिल्म्स के मालिक आदित्य चोपड़ा से शादी कर ली थी.

फिल्म के ट्रेलर के सामने आने के साथ ही यह बात तो साफ हो गई थी कि रानी की यह फिल्म एक ऐसी टीचर पर आधारित है जिसे हिचकी की बीमारी होती है. ट्रेलर को देख लोगों ने रानी की एक्टिंग को भी सराहा था. अब देखिए कैसी है फिल्म :

फिल्म में रानी को एक स्कूल टीचर नैना माथुर के रूप में बताया गया है. नैना को ‘टॉरेट सिंड्रोम’ नामक एक बीमारी होती है जिसके कारण उसे बोलने में दिक्कत आती है और बार-बार हिचकी का सामना करना पड़ता है. इस हिचकी के कारण ही लोग भी उनसे सही से पेश नहीं आते हैं. ऐसे में नैना को एक स्कूल में टीचर की नौकरी मिलती है लेकिन यहाँ उनको मिलने वाले स्टूडेंट्स काफी शरारती होते हैं.

स्टूडेंट्स स्कूल में नैना को अलग-अलग तरीकों से परेशान करने में लगे रहते हैं. इसके आगे इस फिल्म में क्या होता है और रानी उनसे कैसे निपटती है और उन्हें पढ़ाती है. यह देखने के लिए आपको सिनेमाघरों तक जाना पड़ेगा.

फिल्म में रानी के साथ हर्ष मायर, सचिन पिलगांवकर, शुप्रिया पिलगांवकर और कुणाल शिंदे भी नजर आए हैं.

Published by Hitesh Songara on 23 Mar 2018

Related Articles

Latest Articles