अपने बेटे का सपना पूरा करने के लिए गौरी शंकर सिंह ने पीएफ और LIC के पैसों से की एकेडमी की शुरुआत

Get Daily Updates In Email

अपने बच्चों का सपना पूरा करने के लिए सभी माता-पिता हर पुरजोर कोशिश करते हैं. यहां हम ऐसे ही एक पिता के बारे में बात कर रहे हैं जिन्होंने अपने बेटे का सपना पूरा करने के लिए साल 2005 में पीएफ और LIC के 12.50 लाख रूपए से साढ़े छह बीघा जमीन खरीदी और इस जमीन पर अपने बेटे के नाम से विवेक सिंह हॉकी एकेडमी की शुरुआत की.

courtesy

आपको बता दें इस पिता का नाम है गौरी शंकर सिंह जोकि जीव विज्ञान के टीचर हैं और वे उत्तरप्रदेश में वाराणसी के शिवपुर में विवेक सिंह ओलंपियन मार्ग पर रहते हैं. गौरी शंकर बताते हैं कि साल 2005 में मुंबई टाटा मेमोरियल अस्पताल में बेटे इंटरनेशनल हॉकी प्लेयर विवेक सिंह की जंपिंग कैंसर से मौत हो गई थी. मरने से पहले उसने बताया था कि वह हॉकी की एकेडमी खोलना चाहता है. मुंबई से लौटने के बाद ही घर से 6 किमी दूर करोमा गाँव में 6.5 बीघा जमीन खरीदी और एक साल की कड़ी मेहनत के बाद स्टेडियम बनाया. यहां 150 से ज्यादा बच्चे हॉकी और क्रिकेट सीखने रोज आते हैं. 40 से ऊपर लड़कियां भी उनसे ट्रेनिंग ले रही हैं.

Courtesy

जिन बच्चों को गरीबी के चलते हॉकी खरीदने में दिक्कत होती है, उन्हें किट और हॉकी भी दी जाती है. हर साल 10 से ज्यादा बच्चे स्पोर्ट्स हॉस्टल के लिए सिलेक्ट होते हैं. एक दर्जन से ज्यादा नेशनल खिलाड़ी एकेडमी ने दिए हैं. यहां प्रैक्टिस करने वाले सुमित कुमार, ललित कुमार भारतीय टीम और चन्दन, प्रशांत, विशाल जूनियर भारतीय टीम का हिस्सा हैं. इसके आगे वे बताते हैं कि तीन साल पहले स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया के लोग आए थे. उन्होंने पहली बार बिना किसी सरकारी मदद के इतने बच्चों को ऐसे स्टेडियम में खेलते देखा. वे लोग फूडिंग, हॉस्टल की बात करके तो गए लेकिन आज तक उनका कोई जवाब नहीं आया और न ही कोई मिलने आया. उनके मुताबिक स्टेडियम बनाने में एक साल लगा.

Courtesy

अपने बारे में बात करते हुए गौरी ने कहा कि वे मूल रूप से जौनपुर के रहने वाले हैं. पढ़ाई के बाद वे गोरखपुर चले गए. इस दौरान हॉकी और फुटबॉल टीम के कप्तान रहे. चार बार टीम का नेतृत्व भी किया. पढ़ाई में रूचि और नौकरी के चलते आगे नहीं खेल पाए इसलिए सभी बच्चों को स्पोर्ट्स से जोड़ा. गौरी शंकर के जीवन पर साल 2011 में बनी गैर फीचर फिल्म ‘ऐंड वी प्ले ऑन’ ने नेशनल फिल्म अवार्ड जीता था. बता दें कि श्रीलंका शार्क फिल्म फेस्टिवल में फिल्म का स्क्रीन प्ले किया गया था.

Published by Chanchala Verma on 04 Apr 2018

Related Articles

Latest Articles