रिसर्च में आया सामने, 900 सालों तक पड़े सूखे ने किया था सिंधु घाटी सभ्यता का अंत

Get Daily Updates In Email

भारतीय इतिहास का अहम हिस्सा ‘सिंधु घाटी की सभ्यता’ हमेशा ही दुनियाभर के पुरातत्वविदों और वैज्ञानिकों के लिए आकर्षण का केंद्र बना रहा है. सिंधु घाटी की सभ्यता को लेकर आज भी कई तथ्य सामने आने बाकि हैं और इसे लेकर आज भी नए तथ्य सामने आते रहते हैं. वहीं अब इस सिलसिले में आईआईटी खड़गपुर के वैज्ञानिकों ने सिंधु घाटी की सभ्यता के संबंध में एक और तथ्य को सामने रखा है. इन वैज्ञानिकों के मुताबिक 4,350 साल पहले आए एक विशिष्ट सूखे की वजह से इस प्राचीन सभ्यता का अंत हुआ था. वैज्ञानिकों का मानना है कि यह सुखा करीब 900 साल तक रहा जिस कारण सिंधु घाटी के लोगों को पलायन करने में मजबूर होना पड़ा था.

courtesy

यह तथ्य आईआईटी खड़गपुर के भूविज्ञानों और भूभौतिकी विभाग ने सामने लाकर रखा है. आईआईटी खड़गपुर के ये वैज्ञानिक 5,000 सालों के दौरान मानसून की अस्थिरता पर शोध कर रहे हैं. इसी दौरान उनके शोध में यह तथ्य सामने आया है कि सदियों पहले हिमालय के उत्तर-पश्चिम भाग में 900 सालों तक बारिश नहीं हुई थी. इस वजह से वहां मौजूद सभी पानी के स्रोत और नदियां सूख गईं थीं. इन पानी के स्रोतों की वजह से सिंधु सभ्यता फली-फूली थी. वहीं, पूर्व और दक्षिण में बारिश होने की गुंजाइशें बेहतर थीं इसलिए वहां रहने वालों को इस तरह के सूखे का सामना नहीं करना पड़ा.

courtesy

आईआईटी खड़गपुर में भूविज्ञान और इस रिसर्च के प्रमुख अनिल कुमार गुप्ता ने मीडिया से मुलाकात के दौरान बताया कि ‘अध्ययन से पता चला है कि ईसा 2,350 से 1,450 वर्ष पूर्व के बीच मानसून में भारी कमी आई थी. इससे उस इलाके पर काफी प्रभाव पड़ा था जहां सभ्यता पनपी थी. सूखे जैसे हालात बन गए थे जिसके चलते निवासियों को मजबूरन वहां पलायन करना पड़ा था.’ उन्होंने यह भी बताया कि वहां से पलायन कर लोगों ने पूर्वी और मध्य उत्तर प्रदेश, बिहार और बंगाल, मध्य प्रदेश, विंध्याचल और दक्षिणी गुजरात जैसे इलाकों की तरफ अपना रुख किया था.

courtesy

रिसर्च में सामने आया यह तथ्य पुराने तथ्यों को चुनौती देता नजर आ रहा है. पुराने तथ्य के मुताबिक सिंधु सभ्यता के समय पड़ा सूखा केवल 200 सालों तक रहा था. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह अध्ययन इसी महीने एक इंटरनेशनल  मैगज़ीन में भी प्रकाशित होगा.

Published by admin on 16 Apr 2018

Related Articles

Latest Articles