‘गोल्ड’ एक्ट्रेस निकिता दत्ता ने कहा- ‘दिल्ली की तुलना में मुंबई में ज्यादा सेफ महसूस होता है’

Get Daily Updates In Email

अक्षय कुमार की मोस्ट अवेटेड फिल्म ‘गोल्ड’ में नजर आने वाली एक्ट्रेस निकिता दत्ता ने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान दिल्ली और मुंबई को लेकर अपने विचार व्यस्त किए हैं. एक्ट्रेस ने बताया कि दिल्ली-नोएडा की तुलना में उन्हें मुंबई में ज्यादा सेफ महसूस होता है.

She fears no one. Coming to get you in six days from now! #AanchalShrivastav #Haasil #30thOctober #6DaysToGo @siddharthpmalhotra @sonytvofficial @itszayedkhan @vattyboy

A post shared by Nikita Dutta (@nikifying) on

एक्ट्रेस इन दिनों अपने टीवी शो ‘हासिल’ की शूटिंग पूरी करके अपने होमटाउन नोएडा में एन्जॉय कर रही हैं. निकिता ने आगे बताया- ‘मुंबई में जिंदगी हमेशा चलती रहती है जबकि दिल्ली में मुझे ब्रेक लेना पड़ता है. इससे मुझे बहुत शांति मिलती है. मुझे ऐसा लगता है कि यहां पर मुझे किसी राजकुमारी जैसा ट्रीटमेंट मिल रहा है. मैं तीन साल तक जनपथ में रही हूं और मुझे वह जगह बहुत पसंद है.

Hustle plus heart Will keep you apart. 😇

A post shared by Nikita Dutta (@nikifying) on

आगे एक्ट्रेस ने कहा- ‘नोएडा में मेरा बहुत अनुभव नहीं रहा है. जब मैं छोटी थी तो अट्टा मार्केट जाया करती थी.’ एक्ट्रेस ने बताया कि उन्हें दिल्ली-नोएडा पसंद है लेकिन यहां पर शाम 7 बजे के बाद वह बाहर निकलना नहीं पसंद करती हैं. निकिता ने आगे कहा- ‘क्योंकि मैंने अपनी जिंदगी मुंबई में गुजारी है तो मेरे लिए दिल्ली एक ऐसी जगह है जहां मैं रिश्तेदारों से मिलने आती हूं और कोशिश करती हूं कि शाम को 7 बजे से पहले वापस घर आ जाऊं. इसके बाद मैं बाहर तब निकलती हूं जब मुझे शॉपिंग से लिए या जिम से लिए जाना होता है क्योंकि मुंबई मेरा शहर है और बहुत ज्यादा सेफ है. मैं वहां बहुत से फायदे उठाती हूं.

आगे बात करते हुए निकिता ने कहा- ‘क्योंकि मेरे माता-पिता यहां पर हैं, तो यहां पर मैं अपने माता-पिता के नियमों के हिसाब से चलती हूं और वक्त से वापस लौट आती हूं. हम दिल्ली और नोएडा में लड़कियों के बारे में तमाम ऐसी कहानियां सुनते हैं जिसके बाद यह पता चलता है कि यह लड़कियों के लिए सेफ नहीं है, इसलिए मुझे लगता है कि जल्दी वापस लौट आना ही ठीक है. मेरे दिल्ली के दोस्त मुझे यह बताते हैं कि दिल्ली सेफ है लेकिन मैं उन्हें मिलने के लिए लंच का वक्त ही देती हूं. यदि मुझे डिनर के लिए बाहर जाना भी होता है तो मैं कोशिश करती हूं कि अपने परिवार के साथ ही बाहर जाऊँ.

 

 

Published by Chanchala Verma on 22 Apr 2018

Related Articles

Latest Articles