भूखों को रोज़ाना खाना खिलाते हैं सैयद, अमिताभ बच्चन द्वारा भी हो चुके हैं सम्मानित

Get Daily Updates In Email

ऐसा तो हम कई जगह देखते हैं कि मंदिरों और गुरुद्वारों में लोगों को खाना खिलाया जाता है. भारत में कभी-कभी लोग दान पुण्य करने के हिसाब से भी गरीबों को खाना खिलाते हैं. लेकिन कभी आपने ऐसे इंसान के बारे में सुना है जो रोज़ाना गरीबो को खाना खिलाता है.

Courtesy 

जी हाँ, इस महंगाई के दौर में भी हैदराबाद के सैयद उस्मान अजहर मकसुसी रोज़ाना दबीरपुर फ्लाईओवर के नीचे बैठे भिखारियों और कचरे बीनने वालो को गरम-गरम दाल चावल खिलाते हैं. दोपहर को 12.30 बजे सैयद उस्मान वहां पहुंच जाते हैं. वहां जाकर वो चटाई बिछाते हैं जिसपर बैठकर लोग खाना खाते हैं. सय्यद उस्मान का कहना है कि, भूखों का कोई मज़हब नहीं होता है. हर मज़हब के इंसान को भूख लगती है और मानवता दिखाते हुए हमें भूखों का पेट भरना चाहिए.

Courtesy 

चार साल की छोटी उम्र में ही सैयद उस्मान के सर से पिता का साया उठ गया था. जिसके बाद उन्हें भूख की पीड़ा का अहसास हो गया था. उस्मान कहते हैं कि,’ एक बार एक लड़की लक्ष्मी भूख से झटपटा रही थी. वह बिलख-बिलख कर रो रही थी. मैंने उसे खाना खिलाया और वो बहुत खुश हो गई थी. इसके बाद से ही मैंने गरीबों को खाना खिलाने का निर्णय लिया था.’ शुरुआत में सैयद की बीवी इन लोगों के लिए खाना बनाया करती थीं. इसके बाद अब सैयद खुद फ्लाईओवर के नीचे खाना बनाते हैं. इससे उनके किराए की भी बचत होती है. पहले इन गरीबों की संख्या 30 थी जो अब बढ़कर 150 हो गई है.

सैयद के इस काम के लिए उन्हें सराहा भी गया है. कुछ समय पहले अभिनेता सलमान खान ने अपने प्रोग्राम बिंग ह्यूमन के लिए सैयद को बुलाया था. इसके लिए देशभर से सिर्फ 6 लोगों का चयन होता है जिसमें इस बार सैयद ने भी जगह बनाई थी. इसके अलावा बॉलीवुड के दिग्गज अमिताभ बच्चन भी उन्हें सम्मानित कर चुके हैं.

Courtesy 

बता दें कि सैयद की प्लास्टर ऑफ़ पेरिस की एक दुकान है जहां वो सुबह और शाम का कुछ समय बिताते हैं. बाकि का समय सैयद को खाना बनाने में और परोसने में ही लग जाता है.

Published by admin on 23 May 2018

Related Articles

Latest Articles