शादी के लिए 25 लड़कों का बायोडाटा देखने के बाद अब वर चुनने के लिए 15 लड़कों से मिलेंगी गीता

Get Daily Updates In Email

साल 2015 में पाकिस्तान से भारत लौटने वाली गीता अब जल्द ही अपने लिए दूल्हा चुनने वाली हैं. इसके लिए वे जल्द ही 15 युवकों से मिलने वाली हैं. इन युवकों ने फेसबुक पर वैवाहिक विज्ञापन देखने के बाद गीता के साथ शादी की इच्छा जताई है. यह भी बता दें कि गीता मूकबधिर हैं. गीता की शादी के लिए योग्य वर खोजने के अभियान से सांकेतिक भाषा विशेषज्ञ ज्ञानेंद्र पुरोहित भी जुड़े हैं. पुरोहित ने बताया कि विदेश मंत्रालय के निर्देशों के मुताबिक गीता को बुधवार को 25 लड़कों के बायोडेटा और तस्वीरें दिखाई गई. इनमें से गीता ने 15 युवकों से मिलना तय किया है. इन 15 युवकों में से 10 लोग सामान्य हैं यानी वे गीता की तरह विशेष जरूरतों वाले नहीं हैं.

Courtesy

पुरोहित ने आगे बताया, ‘गीता ने इशारों की जुबान में कहा कि अगर वह किसी सामान्य युवक को अपने पति के रूप में पसंद करती हैं, तो उसे सांकेतिक भाषा सीखनी होगी ताकि वैवाहिक जीवन के दौरान उन दोनों को संवाद में कोई दिक्कत न हो. इसके साथ ही उनके भावी पति को उनके माता-पिता की खोज में मदद करनी होगी.’

Courtesy

आगे उन्होंने बताया कि प्रशासन उन 15 लोगों को गीता से जल्द ही मिलवाएगा. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात के बाद उन्होंने गीता के लिये योग्य वर की तलाश के मकसद से फेसबुक पर 10 अप्रैल को वैवाहिक विज्ञापन पोस्ट किया था. इसके बाद देशभर के लगभग 50 लोगों ने गीता के साथ सात फेरे लेने की इच्छा जताई थी. विदेश मंत्रालय ने इनमें से 25 लोगों को छांटकर जिला प्रशासन को निर्देशित किया था कि वह इनसे गीता को उनकी इच्छा के मुताबिक मिलवाने का इंतजाम करे, ताकि वह अपनी पसंद का वर चुन सकें.

Courtesy

बताते चलें कि गीता मध्यप्रदेश सरकार के सामाजिक न्याय और नि:शक्त कल्याण विभाग की देख-रेख में इंदौर की गैर सरकारी संस्था ‘मूक-बधिर संगठन’ के गुमाश्ता नगर स्थित आवासीय परिसर में रह रही हैं. सरकार उनके माता-पिता की खोज कर रही है. यह भी बता दें कि करीबन ढाई साल से अब तक अलग-अलग इलाकों के 10 से ज्यादा परिवारों ने गीता को अपनी लापता बेटी बताया है.

Courtesy

गौरतलब है कि गीता सात-आठ साल की उम्र में पाकिस्तानी रेंजर्स को समझौता एक्सप्रेस में लाहौर रेलवे स्टेशन पर मिली थीं. इसके बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के विशेष प्रयासों के बाद वे 26 अक्टूबर 2015 को भारत लौट आई हैं.

Published by Chanchala Verma on 24 May 2018

Related Articles

Latest Articles