5 दिनों तक मवेशियों को बारिश में रखने पर व्यक्ति को 5 साल बाद मिली 10 दिन की सजा

Get Daily Updates In Email

मुंबई स्थित लालबाग के एक 75 साल के व्यक्ति को 2013 के मॉनसून के दौरान पांच दिनों तक बारिश में अपने 28 मवेशियों को रखने के लिए 10 दिनों की कारावास की सजा सुनाई गई है. कोर्ट का कहना है कि उन्होंने मवेशियों को सूखे शेड में रखने की बजाय बाहर रहने दिया. इसके साथ ही उनपर 3,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. बता दें कि घटना के पांच साल बाद पिछले हफ्ते 28 मई को मुंबई मेट्रोपॉलिटन कोर्ट ने फैसला सुनाया कि मवेशियों को मौसम के संपर्क में लाया गया था जो उनके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता था.

घटना में गोपाल फुलसंज को 17 गायों, 8 बछड़ों और बैलों को बारिश के दौरान 5 दिनों तक सूखे में जगह ना देने और बारिश में भीगने के मामले में दोषी पाया गया है. इस मामले में जानवरों के कार्यकर्ता और सामाजिक कार्यकर्ता चेतन शर्मा ने शिकायत दर्ज करवाई थी. जिसके बाद पुलिस ने 2013 में वरिष्ठ नागरिक के खिलाफ पशु अधिनियम, 1960 की रोकथाम के तहत मामला दर्ज किया था.

आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट में शर्मा ने अदालत से कहा कि, 28 जून 2013 को गोपाल ने बारिश में पांच दिनों के लिए मेट्रो पुल के पास अपने 28 मवेशियों को बांध दिया था. इस मामले में ही एक गवाह को भी पेश किया गया था जिसने इस बात की पुष्टि की कि फुटपाथ से बंधे पशुओं को देखा था. साथ ही उसने यह भी बताया कि गोपाल जानवरों की उचित देखभाल करता था.

गोपाल पर जानवरों को पर्याप्त भोजन और पानी उपलब्ध कराने का आरोप भी लगाया गया था लेकिन आरोप साबित नहीं हुआ था. अदालत का कहना है कि आरोपी को जानवरों की उचित आश्रय के लिए जरूरी व्यवस्था करनी चाहिए, जो उन्हें अपनी दैनिक रोटी और मक्खन प्रदान करते हैं.

Published by Hitesh Songara on 05 Jun 2018

Related Articles

Latest Articles