हर एक सेकंड में दुनिया में जन्म ले रहे हैं 4 बच्चे, जनसंख्या के मामले में भारत है दूसरे नंबर पर

Get Daily Updates In Email

आज वर्ल्ड पापुलेशन डे है और कुछ समय पहले आज के बारे में बात करें तो 11 जुलाई 1989 को दुनिया की आबादी 500 करोड़ थी. बढती जनसंख्या के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए यूएन ने आज ही के दिन यानि 11 जुलाई को वर्ल्ड पापुलेशन डे घोषित किया था. घरती पर 1804 में सौ करोड़ की आबादी थी और अमेरिकन नेचुरल हिस्ट्री के मुताबिक आबादी को 100 करोड़ होने में 2 लाख साल लगे. लेकिन अगले 100 करोड़ होने में 130 साल लगे इसके बाद अगले 100 करोड़ होने में 33 साल लगे. वहीँ इसके बाद अगले 100 करोड़ होने में केवल 15 साल लगे.

इन सब के बाद ग्रोथ रेट में थोड़ी कमी आई और अगले 100 करोड़ होने में 14 साल लगे. वहीं अब मौजूदा दर के हिसाब से आबादी को दोगुनी होने में 200 करोड़ साल लगेंगे.

courtesy

Worldometers के आंकड़ों के मुताबक इस वक्‍त विश्‍व की कुल जनसंख्‍या 7.6 बिलियन यानी कि 760 करोड़ है. वहीं सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले देश की लिस्ट में चीन (141 करोड़) के साथ पाहले नंबर पर और भारत 135 करोड़ के साथ और अमेरिका 32.67 करोड़ के साथ तीसरे नंबर पर है.

चलिए आज हम पापुलेशन को लेकर कुछ फैक्ट पढेंगे…

courtesy

  • दिन के हर एक सेकंड में 4 बच्चे पैदा होते हैं और 2 लोग मर जाते हैं. यानी ग्रोथ रेट ज्यादा है और मोर्टेलिटी रेट कम. ऐसे में 2050 तक 70 फीसदी पॉपुलेशन शहरों में रहेगी.

 

  • 1950 तक युवाओं की संख्या ज्यादा था और बूढ़े कम. वहीं अब बुजुर्गों की संख्या बढ़ी है. माना जा रहा है कि 2050 तक यह संख्या और बढ़ेगी.

 

  • पूरी दुनिया में ग्रोथ रेट में नाइजीरिया की सबसे ज्यादा है. फिलहार नाइजीरिया जनसंख्या के मामले में 7वें नंबर पर है. पर 2050 से पहले वो जनसंख्या के मामले में अमेरिका को पीछे छोड़ देगा.

Published by admin on 11 Jul 2018

Related Articles

Latest Articles