जो करना चाहते थे वहीँ करते थे किशोर कुमार, सिंगिंग के साथ ही थे बेहतरीन कॉमिक एक्टर

Get Daily Updates In Email

इंडस्ट्री में एक्टर्स की तरह ही सिंगर्स को भी काफी पसंद किया जाता है. जितनी फैन फ़ॉलोइंग एक्टर्स की होती है उतनी ही फैन फ़ॉलोइंग सिंगर्स की भी होती है. जब भी सिंगर्स की बात होती है तो इस लिस्ट में करोड़ों दिनों पर राज करने वाले सिंगर किशोर कुमार का नाम जरूर लिया जाता है और आज उनका जन्मदिन है. किशोर कुमार का जन्‍म 4 अगस्‍त 1929 को मध्‍य प्रदेश के खंडवा शहर में हुआ था.

Courtesy

अपनी आवाज से किशोर कुमार ने लोगों पर ऐसा जादू चलाया कि वे आज भी लोगों के दिलों पर राज करते है. उनके गाने सुनना आज भी लोग बेहद पसंद करते हैं. यही नहीं वे अपनी कॉमिक टाइमिंग के लिए भी वे जाने जाते हैं. 50-60 के दशक में आई फिल्मों में उनका यह अंदाज भी देखने को मिलता है. उनकी पहली फिल्म ‘शिकारी’ साल 1946 में रिलीज हुई थी. इस फिल्म में किशोर कुमार के बड़े भाई अशोक कुमार मुख्य भूमिका में नजर आए थे.

Courtesy

बात की जाए किशोर कुमार के सिंगिंग करियर की तो पहली बार उन्होंने देव आनंद की फिल्म ‘जिद्दी’ का गाना गाया था. उन्हें एक्टिंग करना पसंद नहीं था लेकिन बड़े भाई के कहने पर उन्होंने एक्टिंग में हाथ आजमाया. उन्हें सिर्फ सिंगिंग करना ही पसंद है. लेकिन उनका नाम बेहतरीन सिंगर्स के साथ ही बेहतरीन कॉमिक एक्टर के तौर में भी लिया जाता है. बात की जाए उनकी फिल्मों कि तो उन्‍होंने ‘पड़ोसन’, ‘चलती का नाम गाड़ी’, ‘हॉफ टिकट’ और नई दिल्‍ली जैसी फिल्‍मों में काम किया है. इस फिल्म में उनकी कॉमिक टाइम के लिए पसंद किया गया.

Courtesy

बात की जाए इंडस्ट्री में उनके आने की तो शुरुआत में किशोर कुमार को लोग गंभीरता से नहीं लेते थे. लेकिन फेमस संगीतकार एस डी बर्मन ने उनकी मदद करते हुए सलाह दी कि वो सहगल साहब को कॉपी करने की बजाय खुद का स्टाइल अपनाये. जिसके बाद उन्होंने साल 1957 में उन्‍होंने फिल्म ‘फंटूस’ के एक सेड सॉंग को गाया जिसे दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया गया. इस गाने के बाद से उन्हें कभी पीछे पलटकर नहीं देखा. इसके बाद उन्‍होंने ‘टैक्सी ड्राइवर’, ‘गाईड’, ‘प्रेमपुजारी’, ‘मुनीम जी’, ‘फंटूश’, ‘नौ दो ग्यारह’, ‘पेइंग गेस्ट’, ‘ज्वेल थीफ़’, ‘तेरे मेरे सपने’ जैसी फ़िल्मों में अपनी आवाज का जादू दिखाया.

Courtesy

किशोर कुमार अपनी धुन के पक्के थे. एक बार उन्होंने कहा था, ‘कौन जाने वो क्यों आए लेकिन कोई भी मुझसे वो नहीं करा सकता जो मैं नहीं करना चाहता. मैं किसी दूसरे की इच्छा या हुकूम से नहीं गाता.’

Courtesy

गायकी की दुनिया में अपना नाम करने वाले किशोर कुमार ने 13 अक्टूबर 1987 को अंतिम सांस ली.

Published by Chanchala Verma on 04 Aug 2018

Related Articles

Latest Articles