पसंद आ रहा है लोगों को नवाजुद्दीन सिद्दीकी स्टारर ‘मंटो’ का ट्रेलर, मिल चुके हैं 40 लाख व्यूज

Get Daily Updates In Email

बॉलीवुड के बेहतरीन एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दिकी एक बार फिर से अपनी एक्टिंग का जलवा दिखाने के लिए तैयार हैं. जी हां, काफी समय से चर्चा में रही नवाज की फिल्म ‘मंटो’ का कल स्वतंत्रता दिवस जैसे खास मौके पर ट्रेलर रिलीज़ किया गया है. जो कि यूजर्स द्वारा काफी पसंद किया जा रहा है. मंटो का पूरा नाम सादत हसन मंटो था.

‘मंटो’ का ट्रेलर दर्शकों को इतना ज्यादा पसंद आ रहा है कि अब यह यूट्यूब पर भी सुपरहिट हो चुका है. जी हां, यूट्यूब पर यह 5वें नंबर पर ट्रेंड कर रहा है. इस वीडियो को अब तक 40 लाख से भी ज्यादा बार देखा जा चुका है. इस फिल्म की कहानी भारत-पाकिस्तान विभाजन और विवादित लेखक ‘मंटो’ के जीवन पर आधारित है.

देखें फिल्म का ट्रेलर –

इस फिल्म की कहानी पाकिस्तानी लेखक ‘मंटो’ उर्फ सआदत हसन मंटो के जीवन के इर्द-गिर्द ही घूमती है. फिल्म में नवाजुद्दीन ने इस किरदार को बहुत ही अच्छे तरीके से निभाया है. इस फिल्म का टाइटल है ‘बोल के लब आजाद है.’ फिल्म में काफी अच्छे डायलॉग लिए गए हैं. फिल्म में 1948 के दशक की लौहार की कहानी को दिखाया गया है जिसमें ‘मंटो’ बोलते हैं, “जब गुलाम थे तो आजादी का ख्वाब देखते थे और अब आजाद हैं तो कौन-सा ख्वाब देखें?”

इस फिल्म को नंदिता दास ने डायरेक्ट किया है. फिल्म में लेखक मंटो के 1946 से 1950 तक के जीवन को दिखाया गया है. बता दें मंटो भारत-पाकिस्तान के विभाजन पर लिखी अपनी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं. 11 मई, 1912 को जन्मे मंटो कुछ समय बाद पाकिस्तान चले गए. उनका निधन 18 जनवरी, 1955 को हुआ था. इस समय उनकी उम्र महज 42 साल की थी.

आज अदबी कालखंड के सबसे मुखर और धारदार अफ़साना निगार, पटकथा लेखक और पत्रकार सआदत हसन मंटो का जन्मदिन है। मंटो पर कुछ भी कहना और उसपर सही उतरना बस मंटो के ही बस की बात थी। मंटो ने खुदको और दुनिया को जैसा देखा, वैसा लिखा। निजी ज़िंदगी और तहरीर में इतना कम फ़र्क़ रख कर जीना बहुत कम लोगों के बस की बात है। मंटो की तहरीरें जब तक किसी ना किसी को चुभती रहेंगी, मंटो तब तक साँस लेते रहेंगे। 🙏❤️ #mantomovie #manto #mantobirthday #nawazudeensiddique #happybirthday

A post shared by Rao Nikesh ⏺️ (@raonikeshyadav) on

फिल्म 21 सितम्बर को रिलीज़ होगी. फिल्म साल 2014 में रिलीज़ होने वाली थी जिसके बाद फिल्म की रिलीज़ डेट साल 2016 कर दी गई. जिसके बाद अब आखिरकार अगले महीने फिल्म रिलीज़ होने वाली है.

फिल्म को लेकर होने वाली इस देरी पर नंदिता दास ने कहा था, ‘देखिए मंटो एक बड़े विस्तार वाला किरदार है. बहुत मुश्किल होता है उनकी कहानी से कुछ छोड़ना और कुछ रखना. उनकी कहानी की स्क्रिप्ट बना लेने के बाद वो इतनी लंबी हो गई कि उसे छोटा करना पड़ा और किसी अच्छी चीज़ को छोटा करना मुश्किल होता है.’

Published by Chanchala Verma on 16 Aug 2018

Related Articles

Latest Articles