ग्वालियर में बना हुआ है ‘भारत रत्न’ अटल बिहारी वाजपेयी का मंदिर, रोज होता है उनकी कविताओं का जाप

Get Daily Updates In Email

भारत रत्न से विभूषित भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भले ही अब इस दुनिया से जा चुके हैं, लेकिन लोगों के दिलों में वो हमेशा जिंदा रहेंगे. अपने ओजस्वी नेतृत्व और राजनीति कुशलता के चलते उन्होंने भारत के लिए अनेक फैसले ऐसे लिए जो देश के लिए बहुत उपयोगी साबित हुए हैं. उनकी ख्याति देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी है. लोग उन्हें अपना आदर्श मानते हैं.

courtesy

मध्यप्रदेश के ग्वालियर में जन्मे अटल बिहारी वाजपेयी का बचपन और स्कूली शिक्षा का समय उन्हीं के जन्म-स्थान ग्वालियर में बीता. वहां के लोगों में उनके लिए इतना सम्मान और प्रेम है कि लोगों ने उनके नाम का वहां मंदिर ही बनवा दिया. साल 2005 में ग्वालियर में सत्यनारायण की टेकरी पर वाजपेयी के नाम से एक छोटे से मंदिर का निर्माण कराया गया था. ये वही जगह है जहां अटल बिहारी वाजपेयी स्कूल के बाद अपना खाली समय बिताने आया करते थे. इस मंदिर का निर्माण अधिवक्ता विजय सिंह चौहान और वाजपेयी के समर्थकों द्वारा कराया गया था.

courtesy

विजय सिंह चौहान ने बताया कि पहले तो वाजपेयी जी इस मंदिर के लिए तैयार नहीं थे, लेकिन बाद में जब उन्हें बताया गया कि यह सब हिंदी भाषा को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है तब जाकर वह इसके लिए तैयार हुए थे. हालांकि उन्होंने हिदायत दी थी कि मंदिर में ना तो ज्यादा पैसा खर्च होगा और ना ही उनकी मूर्ति उसमें लगेगी. इसलिए मूर्ति की जगह मंदिर में अटल बिहारी वाजपेयी की फोटो लगाई गई थी.

courtesy

ग्वालियर के एक प्रसिद्ध कवि नसीम राफत ने बताया कि, ‘मंदिर में हम रोजाना उनकी पूजा करते हैं और उनकी कविताओं का जाप करते हैं. हिंदी प्रेमी और कवियों के लिए यह मंदिर एक बेहतरीन जगह है. वो यहां आकर अपनी रचनाएं और कविताएं सुनाते हैं. साथ ही युवा कवि भी वाजपेयी के इस मंदिर से प्रेरणा लेते हैं. हम चाहते हैं कि वाजपेयी के सम्मान में सरकार एक स्मारक बनवाए.’

courtesy

जानकारी के अनुसार मंदिर के लिए अटल बिहारी वाजपेयी की लाल पत्थर की एक प्रतिमा बनाई जा रही है जिसे अगले तीन महीने के अंदर मंदिर में स्थापित कर दिया जाएगा. उनके नाम से यहां पुरस्कारों का भी वितरण किया जाता है. अब तक करीब 700 लोगों को अटल सम्मान दिया जा चुका है.

Published by Yash Sharma on 18 Aug 2018

Related Articles

Latest Articles