सोनिया गांधी को रेस्टोरेंट में अपने पास बैठाने के लिए राजीव गांधी ने किया था दोगुना भुगतान

Get Daily Updates In Email

20 अगस्त यानी आज ही के दिन देश के 7वें प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी का जन्म हुआ था. राजीव गांधी इंदिरा गांधी और फिरोज गांधी के बड़े बेटे हैं. इंदिरा गांधी के निधन के बाद महज 40 साल की उम्र में राजीव गांधी को प्रधानमंत्री पद की जिम्मेदारी संभालनी पड़ी थी. देश में  कंप्यूटर क्रांति लाने वाले राजीव गांधी और उनकी पत्नी सोनिया गांधी की लव स्टोरी भी काफी इंट्रस्टिंग है. तो चलिए आपको बताते हैं राजीव गांधी और सोनिया गांधी की लव स्टोरी……

Courtesy

राजीव और सोनिया की लव स्टोरी की शुरुआत उस समय हुई थी जब वे कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में पढ़ते थे. दोनों की मुलाकात एक ग्रीक रेस्टोरेंट में हुई थी. यहीं पर राजीव ने सोनिया को पहली बार देखा था और तभी से वे राजीव सोनिया से प्यार करने लगे थे. सोनिया को अपनी पास वाली खाली सीट पर बैठाने के लिए राजीव ने रेस्टोरेंट के मालिक से रिक्वेस्ट की थी कि वे सोनिया को उनके पास वाली जगह ही दें.

Courtesy

एक इंटरव्यू के दौरान रेस्टोरेंट के मालिक ने इस बारे में बात करते हुए बताया था कि जब राजीव ने उनसे सोनिया के पास वाली सीट मांगी थी तो मालिक ने उन्हें कह दिया था कि अगर आप चाहते हैं कि ऐसा हो तो आपको इसके लिए दुगुना भुगतान करना होगा. जिसके बाद राजीव ने इन सब के लिए हामी भी भर दी थी. रेस्टोरेंट के मालिक का कहना था कि उसी समय उसे ऐसा प्यार देखने को मिला जैसा सिर्फ किताबों में होता है.

Courtesy

रेस्टोरेंट में राजीव ने सोनिया के लिए पेपर नेपकिन पर कविता लिखी और वहां मौजूद सबसे महंगी वाइन के साथ वह पेपर सोनिया को भेज दिया. एक इंटरव्यू के दौरान राजीव ने बताया था कि, ‘सोनिया को पहली बार देखकर ही मैं समझ गया था कि यही वो लड़की है जो मेरे लिए बनी है. वो बहुत स्ट्रेट फॉरवर्ड और आउटस्पोकन है. वह कभी कुछ नहीं छुपाती. वो काफी मिलनसार हैं.’

Courtesy

बात करें सोनिया गांधी की तो वे इटली की रहने वाली हैं और उनका असली नाम एडविग एंटोनिया अलबिना मायनो था. सामान्य परिवार से ताल्लुख रखने वाली सोनिया पढ़ाई के साथ ही रेस्टोरेंट में काम भी करती थीं. एक साथ यूनिवर्सिटी में पढ़ने की वजह से दोनों की मुलाकात धीरे-धीरे बढ़ने लगी. मुलाकात का यह सिलसिला करीब 3 साल तक चला. जिसके बाद सोनिया भी राजीव से प्यार करने लगीं. जिसके बाद उन्होंने अपने परिवार वालों को एक लेटर लिखा कि, ‘मैं एक भारतीय लड़के से प्यार करती हूं. वह एक खिलाड़ी है. नीली आंखों वाले ऐसे ही राजकुमार का मैं हमेशा से सपना देखती थी.’

Courtesy

साल 1968 में सोनिया गांधी पहली बार भारत आई थीं. इंदिरा गांधी उस समय भारत की प्रधानमंत्री थीं और ऐसे में सोनिया का उनके घर आना उन्हें सही नहीं लगा जिस वजह से सोनिया को अमिताभ बच्चन के घर रुकवाया गया. इसी बीच अमिताभ और राजीव गांधी के बीच की दोस्ती और भी अच्छी हो गई. बता दें सोनिया को लेने पालम एयरपोर्ट अमिताभ बच्चन पहुंचे थे. इस दिन सोनिया गांधी, राजीव की मंगेतर के रूप में भारत आई थीं. अमिताभ बच्चन की मां तेजी बच्चन ने सोनिया को भारतीय संस्कृति से रूबरू करवाया. उस समय तेजी सोनिया की मां का दायित्व निभा रही थीं.

Courtesy

इंदिरा गांधी एक इटैलियन लड़की से राजीव की शादी करवाने के लिए तैयार नहीं थीं लेकिन तेजी ने ही इंदिरा गांधी को शादी के लिए तैयार करवाया था. साल 1969 में सोनिया और राजीव गांधी की शादी पक्की हुई. जिसके बाद सोनिया और उनका परिवार कुछ दिनों के लिए, बच्चन परिवार के विलिंगडन क्रीसेंट में एक घर पर ठहरे.

Courtesy

जिसके बाद दोनों की शादी हुई और साल 1983 में सोनिया को भारत की नागरिकता मिली. जिसके बाद उनके दो बच्चों प्रियंका और राहुल का जन्म हुआ.

Published by Chanchala Verma on 20 Aug 2018

Related Articles

Latest Articles