मेजर ध्यानचंद के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है राष्ट्रीय खेल दिवस, कहलाते थे ‘हॉकी के जादूगर’

Get Daily Updates In Email

‘हॉकी के जादूगर’ कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद की आज 113वीं जयंती है. 29 अगस्त 1905 को ध्यानचंद का जन्म हुआ था. ध्यानचंद के जन्म दिवस के मौके पर ही भारत में ‘राष्ट्रीय खेल दिवस’ मनाया जाता है. हर साल इसी दिन खेल में शानदार प्रदर्शन के लिए ‘राजीव गांधी’, ‘खेल रत्न’ के अलावा ‘अर्जुन अवॉर्ड’ और ‘द्रोणाचार्य अवॉर्ड’ दिए जाते हैं. आइए बताते हैं मेजर ध्यानचंद की कुछ ख़ास बातें जो शायद ही किसी को पता होगी.

courtesy

ध्यानचंद ने महज़ 16 साल की उम्र में भारतीय सेना जॉइन कर ली थी. भर्ती होने के बाद उन्होंने हॉकी खेलना शुरू किया. ध्यानचंद काफी प्रैक्टिस किया करते थे. रात को उनके प्रैक्टिस सेशन को चांद निकलने से जोड़कर देखा जाता इसलिए उनके साथी खिलाड़ियों ने उन्हें ‘चांद’ नाम दे दिया था.

courtesy

साल 1928 में एम्सटर्डम में हुए ओलिंपिक खेलों में वह भारत की ओर से सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी रहे थे. उस टूर्नामेंट में ध्यानचंद ने 14 गोल किए. एक स्थानीय समाचार पत्र में लिखा गया था, ‘यह हॉकी नहीं बल्कि जादू था और ध्यानचंद हॉकी के जादूगर हैं’. तभी से उनको ‘हॉकी का जादूगर’ कहकर बुलाने लगे.

courtesy

बर्लिन ओलिंपिक में ध्यानचंद के शानदार प्रदर्शन से प्रभावित होकर वहां के तानाशाह हिटलर ने उन्हें डिनर के लिए आमंत्रित किया था. जर्मन तानाशाह ने उन्हें जर्मनी की फौज में बड़े पद का लालच दिया और जर्मनी की ओर से हॉकी खेलने को कहा. लेकिन ध्यानचंद ने उसे ठुकराते हुए हिटलर को जवाब दिया था कि, ‘हिंदुस्तान ही मेरा वतन है और मैं उसी के लिए जीवन भर हॉकी खेलता रहूंगा’.

courtesy

ध्यानचंद की महानता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वह दूसरे खिलाड़ियों की अपेक्षा इतने गोल कैसे कर लेते हैं. इसके लिए उनकी हॉकी स्टिक को ही तोड़ कर जांचा गया. नीदरलैंड्स में ध्यानचंद की हॉकी स्टिक तोड़कर यह चेक किया गया था कि कहीं इसमें चुंबक तो नहीं लगी. ध्यानचंद ने 1928, 1932 और 1936 ओलिंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया था. तीनों ही बार भारत ने ओलिंपिक में गोल्ड मेडल जीता. दुनिया के सबसे महान हॉकी खिलाड़ियों में से एक मेजर ध्यानचंद ने अतंरराष्ट्रीय हॉकी में 400 गोल दागे. 22 साल के हॉकी करियर में उन्होंने अपने खेल से पूरी दुनिया को हैरान किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर खिलाड़ियों की तारीफ की है. पीएम ने कहा है कि भारतीय खेलों के लिए ये साल अच्छा रहा है. उन्होंने ट्वीट किया कि, ‘मैं उन सभी को सलाम करता हूं जिन्होंने विभिन्न खेलों में भारत की नुमाइंदगी की है. उनकी मेहनत और प्रतिबद्धता से कई उपलब्धियां मिली है. खेलों के लिए यह साल बहुत अच्छा रहा है. जिसमें एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों का प्रदर्शन शामिल है.’

Published by Yash Sharma on 29 Aug 2018

Related Articles

Latest Articles