क्लीनेस्ट सिटी इंदौर के 6500 सफाईकर्मी छुट्टी पर, मेयर समेत शहरवासियों ने थामी कमान

Get Daily Updates In Email

देश के नंबर एक स्वच्छ शहर के रूप में पहचान बना चुका मध्यप्रदेश का शहर इंदौर अपनी स्वच्छता के लिए काफी प्रसिद्ध है. दो बार से इंदौर भारत के सबसे स्वच्छ शहरों में पहले स्थान पर जगह बना रहा है. इंदौर में सफाई कर्मी के साथ-साथ यहां के महापौर और यहां के निवासी भी स्वच्छता को लेकर काफी सजग रहते हैं. आज गोगा नवमी है जिसके चलते यहां के सफाईकर्मी पूरी तरह से इस त्यौहार के आयोजनों में हिस्सा लेते हैं. यह आयोजन पूरी रात भर चलता रहता है. इसलिए अगले दिन का सफाईकर्मियों का अवकाश रहता है.

courtesy

गोगा नवमी का पर्व मंगलवार को मनाया जाएगा. जिसके चलते बुधवार को इंदौर में सभी सफाईकर्मियों का अवकाश रहेगा. लेकिन सफाईकर्मियों के अवकाश के बावजूद शहर की सफाई व्यवस्था सुचारू रूप से बनी रहे. इसके लिए यहां के महापौर ने एक फैसला लिया है. इंदौर के महापौर और उनके साथ स्वयंसेवी संगठनों के 1000 से अधिक सदस्य हाथों में झाडू लेकर सफाई की जिम्मेदारी संभालेंगे.

courtesy

सफाई व्यवस्था प्रभावित नहीं हो इसके लिए निगम ने योजना तैयार की है. योजना के तहत महापौर, पार्षद, निगम अफसर, एनजीओ और प्रायवेट सेक्टर के एक हजार सेे अधिक व्यक्ति हाथों में झाडू लेकर शहर की सफाई करेंगे. कौन कहां की सफाई करेगा इसकी योजना मंगलवार रात तक तैयार कर ली गई है. आईसीआईसीआई बैंक के 300 कर्मचारियों के साथ ही स्वास्तिक फर्म के 250 कर्मचारी बुधवार को शहर की सड़कों पर सफाई के लिए उतरेंगे. इस संबंध में कंपनियों ने निगम को सूचित भी कर दिया है. इसके साथ ही आईटी पार्क स्थित आईटी कंपनियों के कर्मचारी भी सफाई में योगदान देंगे.

courtesy

निगम के अधिकारियों का कहना है कि सफाई कर्मियों के अवकाश पर रहने के बावजूद सफाई व्यवस्था बनाए रखने का प्रयास किया जाएगा. एनजीओ के 250 से अधिक कर्मचारियों द्वारा डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन किया जाएगा. महापौर, पार्षद आदि व्यक्ति राजबाड़ा से सफाई प्रारंभ करेंगे.

Published by Yash Sharma on 05 Sep 2018

Related Articles

Latest Articles