घर में बिठाएं मिटटी से बने गणेश, चलिए बताते हैं आपको गणेश मूर्ति बनाने का आसान तरीका

Get Daily Updates In Email

आज गणेश चतुर्थी के साथ ही जहां कुछ घरों में गणेश जी आने वाले हैं तो कुछ लोगों ने उनकी स्थापना भी कर दी है. इस दौरान सभी लोग यही सुझाव दे रहे हैं कि अपने घरों में मिट्टी से बनी गणेश जी की प्रतिमा ही स्थपित करें. मार्केट में आपको गणेश जी की मिट्टी से बनी कई प्रतिमाएं  मिल जाएंगी. लेकिन अगर आप अपने घर में गणेश जी की मूर्ति बनाना चाहते हैं तो हम इसमें आपकी मदद कर सकते हैं….

सबसे पहले बात करते हैं. गणेश जी की मूर्ति बनाने के लिए हमें किन चीजों की आवश्यकता पड़ेगी. 1 किलो पेपरमेशी मिट्टी जो कि आपको किसी भी स्टेशनरी शॉप पर आसानी से मिल जाएगी, पानी, फि‍निशिंग के लिए ब्रश, मिट्टी की मूर्ति के आवश्यक छोटे औजार या चाकू, बोर्ड और पॉलीथिन. इन सब चीजों के बाद हम हम गणेश जी बनाना शुरू कर सकते हैं.

1. एक समतल स्थल पर बोर्ड को रखने  के बाद उस पर टेप से पॉलीथिन को चिपका दे. इसके बाद पेपरमेशी मिट्टी को लेकर उसे हाथों में चिपकना बंद होने तक गूंथे. अगर आपके पास पेपरमेशी मिट्टी नहीं है तो आप मिट्टी का पाउडर लेकर उसमें गोंद या फेविकॉल डालकर इसे गूंथकर भी बना सकते हैं.

2. इसके बाद तैयार आटे को 3 बराबर हिस्सों में बाट लें. 1 हिस्सा लेकर उसका गोला बनाएं और इसे भी 2 बराबर हिस्सों में बाटें. इन दोनों हिस्सों में से एक हिस्से से हमें गणेश जी को बैठाने के लिए बेस बनाना है. बेस बनाने के लिए उस हिस्से को गोल लड्डू का आकर देकर हल्के-हल्के हाथों से दबाकर चपटा कर दें. ध्यान रहे इसकी मोटाई लगभग 0.5 मिमी तक हो व पूरे गोले की चौड़ाई लगभग 10 से 12 सेमी हो.

3. इसके बाद दूसरे भाग को लेकर उसे अंडे का आकार दें. जिससे हमें गणेश जी का पेट बनाना है.

4. इसके बाद हमें दूसरे बड़े मिट्टी के गोले को लेना है जिसे हमें पहले 4 बराबर भागों में बांटना है. इन चारों भागों से हम  गणेश जी के 2 हाथ और 2 पैर बनाएंगे. हाथ और पैर बनाने के लिए सभी हिस्सों को एक-एक कर पाइप का आकर दें और बाद में किसी भी एक हिस्से को पतला कर दें. यह लगभग 7 से 8 सेमी के बनेंगे. इन सब हिस्सों को तोड़कर इंग्लिश के v का शेप दें. इन सब भागों से हम बेस, गणेश जी का पेट, दोनों हाथ और दो पैर बना चुके हैं और अब हमें इन्हें अरेंज करेंगे.

5. अरेंज करने के लिए सबसे पहले बेस को बोर्ड के बीचों-बीच रखेंगे. इसके ऊपर पैरों की आकृति को आलथी-पालथी की मुद्रा में रखेंगे. जिसके बाद पैरों के ऊपर अंडाकार गोले को पीछे की ओर पैरों से चिपकाकर रखेंगे. जिसके बाद पैरों और पेट के बीच की मिट्टी को किसी औजार की मदद से समतल करने के बाद उन्हें चिपकाएं.

6.जिसके बाद दोनों हाथ मूर्ति में लगाएं और मोटे वाले सिरों से थोड़ी-थोड़ी मिट्टी निकल लें और इनसे दो छोटे-छोटे गोले बनाकर उन्हें पेट के सबसे ऊपर की ओर कंधे बनाते हुए चिपकाएं. अब हाथों को कंधों से जोड़ दें. इस बात का ध्यान रखें कि हाथों की लंबाई मूर्ति के आकार के अनुपात की हो.

7. गणेश जी के सीधे हाथ को आगे से थोड़ा-सा मोड़कर आशीर्वाद की मुद्रा बनाते हुए उन्हें सेट करें और दूसरे हाथ में प्रसाद वाली मुद्रा बनाएं और इस पर छोटा-सा लड्डू बनाकर रखें.

8. अब तक हम 2 बड़े गोलों का यूज कर चुके हैं. अब हम तीसरे बड़े भाग को यूज करेंगे. इस तीसरे गोले को हम 4 भागों में बाटेंगे. इसमें पहले भाग को लेकर इसमें से थोड़ी-सी मिट्टी निकाल लें और इससे गणेश जी की गर्दन बनाएं और बाकि बची हुई मिट्‍टी को गोल आकार देकर गणेश जी का सिर बनाएं. जिसके बाद गणेश जी के पेट के ऊपर गर्दन रखें और इसके ऊपर सिर के आकार को जोड़ दें.

9. मिट्टी के दूसरे हिस्से से हम गणेश जी की सूंड बनाएंगे और उसे उनके सिर से जोड़ेंगे. इसके बाद तीसरे हिस्से को 2 बराबर भागों में बाटेंगे. एक हिस्से को रोटी की तरह चपटा कर लें और चाकू की मदद से इसे 2 भागों में काटेंगे. इनसे हम गणेशजी के कान बनाएंगे.

10. इन दोनों का गोल वाला हिस्सा सिर के दोनों ओर चिपकाएं और इन्हें कानों का आकार दें. इसका दूसरा हिस्सा लेकर उसे कोन का आकार दें और इससे गणेश जी का मुकूट बनाएं और इसे गणेश जी के सिर पर रखें.

11. चौथे हिस्से को लेकर गणेश जी के दांत बनाएं. इस बात का जरूर ध्यान रखें कि गणेश जी के सीधे हाथ की साइड वाला दांत पूरा हो और बाएं हाथ की साइड वाला दांत छोटा हो.

12. अब जो भी मि‍ट्टी बची है इससे हम गणेश जी का चूहा बनाएंगे. चूहा बनाने के लिए मिट्टी के तीन भाग करें. एक हिस्से को अंडाकार बनाएं, जिससे हम चूहे का पेट बनाएंगे. दूसरे हिस्से को फिर 3 भागों में बाटें जिससे हमें चूहे का सिर, कान और पूंछ बनाना है. तीसरे हिस्से के चार भाग करें और चूहे के चार पैर बनाएं.

जब आपके गणेश जी की मूर्ति पूरी बन जाए तो इसे 3 से 4 दिन के लिए छांव में सुखाएं ताकि ये अच्छे से सेट हो जाए और अपनी पसंद के अनुसार इस पर कलर करें.

Published by Chanchala Verma on 13 Sep 2018

Related Articles

Latest Articles