नवाजुद्दीन और रसिका की दमदार एक्टिंग के दीवाने हैं आप तो जरुर देखें ‘मंटो’

Get Daily Updates In Email

आज पाकिस्तानी उर्दू लेखक सआदत हसन मंटो की बायोपिक ‘मंटो’ रिलीज हो गई है. फिल्म में नवाजुद्दीन सिद्दीकी भारत-पाकिस्तानी उर्दू लेखक सआदत हसन मंटो की भूमिका निभाते नजर आ रहे हैं. नवाजुद्दीन सिद्दीकी के अलावा रसिका दुग्गल, ताहिर राज भसीन, ऋषि कपूर, दिव्या दत्ता, रणवीर शौरी, नीरज कबि, जावेद अख्तर जैसे कलाकार की भी आपको एक्टिंग देखने को मिलने वाली है. 1 घंटा 56 मिनट की फिल्म ‘मंटो’ को U/Aसर्टिफिकेट मिला है. जबकि रेटिंग 3.5 स्टार मिली है.

फिल्म की कहानी :

वहीं हम बात करें फिल्म की कहानी की तो फिल्म की कहानी फिल्म मेकर नंदिता दास ने मंटो की ज़िंदगी में रियल और काल्पनिक समाज के बीच के बदलाव को फिल्मी परदे पर बेहद दिलचस्प अंदाज़ में उतारा है. मंटो की ज़िंदगी में सेंसर का अहम हिस्सा रहा. उनके लिखे लेखों पर सेंसरशिप से लेकर अश्लीलता तक के केस हुए.

कुल मिलाकर फिल्म में नंदिता दास ने मंटो के जीवन के उतार-चढाव को दिखाया है. लेखकों की ज़िंदगी में एक अजीब सा अकेलापन होता है और उस अकेलेपन का साथी उन्हें काल्पनिक कहानियों और किरदारों में मिलता है, जो कहीं न कहीं सच्चाई से भी मेल खाते हैं. लेखक का यहीं अंदाज आपको फिल्म में देखने को मिलने वाली है.

फिल्म को क्यों देख सकते हैं?

फिल्म की कहानी और उसे दर्शाने का तरीका काफी शानदार है. 40 के दशक को फिल्म के निर्माता नंदिता दास ने सराहनीय तरीके से दिखाने की कोशिश की है. खास बात तो यह भी है कि 40 के दशक की चींजे को भी पर्दे पर बहुत अच्छे से दिखाने की कोशिश की गई हैं. इसके अलावा फिल्म में आपको नवाजुद्दीन सिद्दीकी की दमदार एक्टिंग देखने को मिलेगी. जिन लोगों को सआदत अली मंटो की रचनाएं पसंद हैं, या जो उनकी जिंदगी के बारे में जानना चाहते हैं, उन्हें ये फिल्म एक बार तो जरुर देखना चाहिए.

इस वजह से ना देखें ‘मंटो’:

जिन लोगों को मसालेदार ताबड़तोड़ हंसी मजाक वाली फिल्म देखनी है वे लोग थोड़ा इस फिल्म से निराश हो सकते हैं. क्योंकि फिल्म में कई ऐसे किरदार हैं जो 40 और 50 के दशक में काफी मशहूर रहे हैं, और शायद उन लोगों को फिल्म समझ पाने में मुश्किल आए.

Published by Lakhan Sen on 21 Sep 2018

Related Articles

Latest Articles