गूगल मना रहा है आज अपना 20 वां जन्मदिन, वीडियो डूडल बना कर किया खुद को विश

Get Daily Updates In Email

दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल आज अपनी 20 वीं वर्षगांठ मना रहा है. गूगल आज के समय में दुनिया में सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला सर्च इंजन है. गूगल ने वीडियो डूडल बनाकर खुद को विश किया और लोगों से मिले प्यार के लिए थैंक्यू कहा है. गूगल ने 1.37 मिनट का वीडियो अपलोड किया है. डूडल वीडियो में गूगल के अब तक के इतिहास को दिखाया गया है. 20 सालों में अलग-अलग भाषा, पढ़ने, नाचने जैसी चीजों को इस वीडियो में दिखाया गया है. अपने दो दशक के इतिहास को बहुत ही सुंदर तरह से डूडल के जरिए प्रदर्शित किया.

गूगल अपना 20वां बर्थडे मना रहा है और इस मौके को यादगार बनाने के लिए गूगल ने एक खास तरह का डूडल बनाया है. गूगल अपने पेज पर ‘G20GLE’ बनाकर दर्शकों के सामने लाया है. दरअसल बीते 20 सालों में गूगल में काफी बदलाव आए हैं लेकिन इस दौरान जो एक चीज़ नहीं बदली वह है डूडल. हर खास मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर लोगों का सिर्फ मनोरंजन ही नहीं किया है बल्कि उनसे संबंधित कई महत्वपूर्ण जानकारियां भी साझा की हैं.’

courtesy

गूगल को 20 साल पहले स्टानफोर्ड यूनिवर्सिटी के दो पीएचडी स्टूडेंट्स लैरी पेज और सर्गे ब्रिन ने शुरू किया था. उन्होंने एक मिशन के तौर पर इस सर्च इंजन को बनाया था. जिसमें दुनियाभर की जानकारियां शामिल की गई थीं. दोनों चाहते थे कि यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स को इस सर्च इंजन पर सारी जानकारियां आसानी से मिल सके. आज गूगल 150 भाषाओं को सपोर्ट करता है तथा 190 देशों में इस्तेमाल किया जाता है. गूगल आज यूजर्स के हिसाब से अपने सभी प्रोडक्ट्स को बना रहा है.

courtesy

बता दें कि शुरू में इस सर्च इंजन का नाम backrub रखा गया था. लेकिन बाद में इसका नाम बदलकर गूगल किया गया. गूगल नाम भी गोगोल की गलत भाषा की वजह से आया था. गूगल के डोमेन को 15 सितम्बर 1977 को रजिस्टर किया गया था. और कंपनी की शुरुआत 4 सितम्बर 1998 को हुई थी. शुरुआती दिनों में गूगल का ऑफिस लैरी और बिन के दोस्त सूजन के गैराज में शुरू किया गया था. सूजन ही गूगल के पहले कर्मचारी थे और बाद में वह फ़रवरी 2004 से यूट्यूब के सीईओ हैं.

courtesy

गूगल के वर्तमान के सीईओ भारतीय मूल के ही सुन्दर पिचाई हैं. वह गूगल 2004 में आए. जहां गूगल के उत्पाद जिसमें गूगल क्रोम, क्रोम ओएस शामिल हैं. इसके बाद वह गूगल ड्राइव परियोजना का हिस्सा बने. इसके बाद वह अन्य उत्पाद जैसे जीमेल और गूगल मानचित्र, आदि का हिस्सा बने. इसके बाद वह 19 नवम्बर 2009 में क्रोम ओएस और क्रोमबूक आदि के जांच कर दिखाए. इसके बाद अगस्त 2015 से ही वह गूगल के सीईओ हैं.

Published by Yash Sharma on 27 Sep 2018

Related Articles

Latest Articles