राज कपूर के लिए क्रिटिक थीं कृष्णा कपूर, उन्हीं की वजह से बदलना पड़ा था ‘बॉबी’ का क्लाइमेक्स

Get Daily Updates In Email

राज कपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर से कपूर फैमिली के हर सदस्य का काफी जुड़ाव रहा है. ऋषि कपूर के बेटे रणबीर कपूर का जुड़ाव अपनी दादी से सबसे ज्यादा रहा है. वे अपनी दादी कृष्णा राज कपूर के बेहद करीब थे. या यूं कहें कि रणबीर उनके लाड़ले पोते थे. कुछ दिनों पहले ही रणबीर ने अपनी दादी से जुड़ी कुछ बातें शेयर की थीं. रणबीर ने बताया था कि जब उनके घर का रिनोवेशन हो रहा था, तो वह अपनी दादी के घर पर लगभग एक साल से ज्यादा रहे थे और उनका पूरा प्यार हासिल किया था. रणबीर आगे कहते हैं कि जितना उन्हें फिल्मों का ज्ञान नहीं होगा, उससे अधिक फिल्मों से लगाव तो उनकी दादी कृष्णा राज कपूर को था.

Courtesy

आगे रणबीर कहते हैं कि जाहिर है कि वह दादाजी के काम से लंबे समय से जुड़ी रही थीं तो उन्होंने तो फिल्मों का वह दौर देखा है, जब हम थे भी नहीं और हिंदी सिनेमा एक अलग ही रूप और आकार ले रहा था. इसके साथ ही रणबीर कपूर ने अपनी दादी को लेकर दिलचस्प बात भी बताई है कि कृष्णा राजकपूर आज भी अपने पोतों-पोतियों की सारी फिल्में देखती हैं और थिएटर में ही देखती हैं. रणबीर की तो उन्होंने सारी फिल्में देखी हैं.

Courtesy

रणबीर ने आगे बताया है कि दादा राज कपूर की कृष्णा राजकपूर एक खास दर्शक तो थी ही इसके साथ ही वे क्रिटिक भी थीं. राज कपूर जब फिल्में बनाते थे, तो वह कृष्णा को रोज रात में उठा कर आरके स्टूडियो लेकर जाते थे. रणबीर ने कहा था कि, दादाजी हमेशा ही दादी की राय जरूर सुनते थे और वह उन्हें अपनी सारी फिल्में जरूर दिखाते थे. उनकी सलाह जरूर लेते थे.

Courtesy

रणबीर ने यह भी बताया कि जब राजकपूर ने दादी कृष्णा को ‘बॉबी’ फिल्म दिखाई थी. अभी फिल्म बन ही रही थी, तो फिल्म का जो क्लाइमेक्स था पहले कि ऋषि कपूर और डिंपल कहानी में मर जाते हैं. फिल्म देखने के बाद कृष्णा राज कपूर का रिएक्शन था कि अगर पूरी फिल्म में इतना कनफ्लिक्ट है, दोनों लवर्स एक-दूसरे से मिलने के लिए बेताब हैं और मशक्कत कर रहे हैं और फिर अगर दोनों मर जाते हैं तो मैं फिल्म देखूंगी ही क्यों! तो दादा राज कपूर ने एक आॅडियंस के रूप में उनकी बात समझी थी. इसलिए रणबीर मानते हैं कि कृष्णा राज कपूर एक दर्शक के रूप में हमेशा आॅनेस्ट रिएक्शन ही देती हैं. वह आम जनता की नजर से सिनेमा देखती हैं.

Published by Chanchala Verma on 01 Oct 2018

Related Articles

Latest Articles