अपने चुलबुले अंदाज के लिए पसंद की जाने वालीं आशा पारेख ने आज तक नहीं की शादी

Get Daily Updates In Email

अपने समय की बेहतरीन अदाकारा आशा पारेख का आज जन्मदिन है. आज एक्ट्रेस 76 साल की हो चुकी हैं. एक्ट्रेस ने इंडस्ट्री में अपनी टॉम-बॉय इमेज को लेकर काफी सुर्ख़ियों बटोरी थीं. एक्ट्रेस अपने चुलबुले, शरारती और नटखट अंदाज़ के लिए काफी पसंद की जाती हैं.

Courtesy

आशा उन एक्ट्रेसेस की लिस्ट में शामिल है जिनका नाम कभी भी गॉसिप या स्कैंडल में नहीं आया है. उनकी फिल्में हमेशा से ही दर्शकों को बेहद पसंद आती है. एक्ट्रेस 1959 से 1973 के समय की टॉप एक्ट्रेसेस में शुमार रह चुकी हैं. फिल्मों से दूरी बनाने के बाद आशा इन दिनों डांस एकेडमी चला रही हैं.

Courtesy

एक्ट्रेस ने चाइल्ड आर्टिस्ट के रूम में अपने करियर की शुरुआत की थी. उन्होंने साल 1952 में दलसुख पंचोली की ‘आसमान’ ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की थी. एक्ट्रेस के तौर पर उनकी फिल्म ‘दिल देके देखो’ सुपरहिट रही थी. इसके अलावा उन्होंने ‘जब प्यार किसी से होता है’, ‘घराना’, ‘फिर वही दिल लाया हूं’, ‘मेरी सूरत तेरी आंखें’, ‘भरोसा’, ‘मेरे सनम’, ‘तीसरी मंजिल’, ‘लव इन टोक्यो’, ‘दो बदन’, ‘आये दिन बहार के’, ‘उपकार’, ‘शिकार’, ‘साजन’, ‘आया सावन झूम के’, ‘पगला कहीं का’, ‘कटी पतंग’, ‘आन मिलो सजना’, ‘मेरा गांव मेरा देश’, ‘कारवां’, ‘समाधि’, ‘जख्मी’, ‘मैं तुलसी तेरे आंगन की’ जैसी सुपरहिट फ़िल्में शामिल हैं.

Courtesy

एक्ट्रेस ने अपनी फिल्म ‘कटी पतंग’ के लिए साल 1972 बेस्ट एक्ट्रेस का फ़िल्मफेयर अवार्ड जीता था. इसके अलावा उन्हें साल 2002 में लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से भी नवाजा जा चुका है. इसके साथ ही उन्हें आइफा ने भी साल 2006 में स्पेशल अवार्ड से सम्मानित किया था.

Courtesy

आशा पारेख ने हिन्दी के अलावा गुजराती, पंजाबी और कन्नड़ फ़िल्मों में भी काम किया. उन्होंने छोटे पर्दे पर भी काम किया है. इसके साथ ही उन्होंने अपनी प्रोडक्शन कंपनी आकृति भी खोली.

Courtesy

आशा पारेख के बारे में आप यह बात भी सभी जानते हैं कि उन्होंने आज तक शादी नहीं की. एक्ट्रेस को लेकर यह कहा जाता है कि वे डायरेक्टर नासिर हुसैन के बेहद करीब थीं. एक इंटरव्यू के दौरान आशा पारेख ने कहा था कि, ‘मैं शादी नहीं करके बहुत खुश हूं. मेरी मां ने मेरे लिए लड़के की तलाश की. लेकिन, कोई योग्य लड़का मिल नहीं पाया. मैं अपने इस फैसले को लेकर बहुत खुश हूं. मेरे किस्मत में शादी नहीं थी- सो नहीं हुई. आज के दौर में जब पति-पत्नी व बच्चे के तनाव को देखती हूं, तो दु:ख होता है.’

Courtesy

बताते चलें आशा साल 1994 से 2000 तक सिने आर्टिस्ट एसोसिएशन की अध्यक्ष रह चुकी हैं. यही नहीं वे सेंसर बोर्ड की पहली महिला अध्यक्ष भी रह चुकी हैं. इसके साल ही कला के क्षेत्र में एक्ट्रेस के योगदान को देखते हुए साल 1992 में उन्हें पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित किया गया था.

Published by Chanchala Verma on 02 Oct 2018

Related Articles

Latest Articles