देश की 6 प्रसिद्द जगहें जहां होती है रावण की पूजा, कहीं पर दामाद तो कहीं पर माना जाता है देवता

Get Daily Updates In Email

पूरे देश भर में आज दशहरे का त्यौहार मनाया जा रहा है. दशहरे के त्यौहार को अच्छाई की बुराई पर जीत का प्रतीक माना जाता है. आज ही के दिन भगवान श्री राम ने लंका के राजा रावण का वध कर वहां की प्रजा और पत्नी सीता को उसके कैद से आज़ाद किया था. लंका के राजा रावण को हमारे देश में बुराई का प्रतीक माना जाता है. हमारे देश में कहीं भी रावण की पूजा या जय-जयकार नहीं की जाती है. लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि भारत में कुछ स्थान ऐसे हैं जहां पर रावण की पूजा की जाती है. इतना ही नही वहां रावण का मंदिर भी बना हुआ है.

courtesy

1. बैजनाथ कस्बा, हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश राज्य में बैजनाथ कस्बा नाम की एक जगह है जहां मान्यता है कि रावण ने भगवान शिव की लम्बे वर्षो तक तपस्या की थी. यहीं से होकर रावण शिवलिंग को लेकर गुजरा था. यहां पर रावण का पुतला नहीं जलाया जाता है.

courtesy

2. दशानन मंदिर, कानपुर, उत्तर प्रदेश

उत्तरप्रदेश के कानपुर शहर में स्थित है दशानन का मंदिर जहां सिर्फ दशहरे के दिन ही मंदिर में जाने की अनुमति दी जाती है. 1890 में बने इस मंदिर में रावण को पूजा जाता है.

courtesy

3.  मंडोर, जोधपुर, राजस्थान

राजस्थान के जोधपुर शहर में स्थित मंडोर में रावण का बड़ा आलीशान मंदिर है. कहा जाता है रावण की पत्नी मंडोर की ही रहने वाली थी. इसलिए रावण को यहां का दामाद भी माना जाता है. रावण की मृत्यु और मंदोदरी के विधवा होने की वजह से दशहरे के दिन यह के लोग इसे शोक के रूप में मनाते है.

courtesy

4. विदिशा, मध्यप्रदेश

विदिशा में रावण की 10 फ़ीट लम्बी प्रतिमा है. इस स्थान को मंदोदरी का जन्म स्थान माना जाता है. शादी और विशेष अवसरों पर रावण का आशीर्वाद लेने यह लोग दूर-दूर से आते हैं.

courtesy

5. मंदसौर, मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश के शहर मंदसौर को भी मंदोदरी का मायका माना जाता है और यहां के लोग रावण को दामाद मानते हैं. लोग यहां रावण को रुंडी नाम से पूजते है. कहा जाता है कि मंदोदरी के नाम पर ही इस जगह का नाम मंदसौर रखा गया था.

courtesy

6. लंकेश्वर महोत्सव, कोलार, कर्नाटक

कर्नाटक राज्य के कोलार नामक जगह पर लंकेश महोत्सव मनाया जाता है. कोलार के मंड्या जिले में मलवल्ली तहसील में रावण का मंदिर भी है.

Published by Yash Sharma on 19 Oct 2018

Related Articles

Latest Articles