दिल्ली में शूट हुई फिल्म ‘जलेबी’, डायरेक्टर पुष्पदीप भारद्वाज ने कहा- शानदार अनुभव रहा

Get Daily Updates In Email

12 अक्टूबर को रिलीज हुई फिल्म ‘जलेबी’ में रिया चक्रवर्ती, वरुण मित्रा और दिगांगना सूर्यवंशी जैसे कलाकार हैं. एक बेहतरीन लव स्टोरी होने के बावजूद मुकेश भट्ट की फिल्म ‘जलेबी’ दर्शकों का दिल जीतने में नाकाम रही है. फिल्म ने अपने ओपनिंग-डे पर सिर्फ 40 लाख रुपए की कमाई की थी. जबकि दूसरे और तीसरे दिन फिल्म ने 60 लाख और 65 लाख का कलेक्शन किया था. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यह फिल्म अब तक कुल 3 करोड़ का कलेक्शन कर पाई है.

बता दें कि इस फिल्म से पुष्पदीप भारद्वाज ने निर्देशन में डेब्यू किया था. हालांकि फिल्म कुछ कमाल नहीं कर पाई है. अभी हाल ही में एक इंटरव्यू में पुष्पदीप भारद्वाज ने फिल्म से जुड़ी कुछ बातें शेयर की हैं. उन्होंने अपने इंटरव्यू में बताया कि, दिलवालों की दिल्ली को फिल्माना उनके लिए शानदार अनुभव रहा. आगे उन्होंने फिल्म की कहानी के बारे में बताया कि, ‘फिल्म जलेबी की कहानी पुरानी दिल्ली के एक लड़के और यहां आने वाली लड़की के ईदर्गिद घूमती है.’

उन्होंने आगे कहा, फिल्म का हीरो नेताजी की हवेली नाम के मोहल्ला में रहता है. मैं जब थियेटर करता था तो उस दौरान मैं कई नाटकों के लिए पुरानी दिल्ली आता था. मैं इन गलियों में बहुत घूमा हूँ. मेरे कई दोस्त दरियागंज में रहते थे. फिल्म की शूटिंग उन्हीं गलियों में हुई है जहां मैंने काफी समय बिताया है. पहली फिल्म की शूटिंग ऐसी जगह करना जहां के कोने-कोने से आप वाकिफ हों, कमाल की बात है. मेरे लिए यह काफी फायदेमंद भी साबित हुआ क्योंकि जब आप खुद उस स्थान के बारे में जानते हैं तो ऐसे में आप फिल्म में अपने स्तर से काफी कुछ अच्छी चीजें जोड़ पाते हैं. दिल्ली से मेरी अनगिनत यादें जुड़ी हुई हैं. मेरे लिए यह अनुभव काफी शानदार था.

पुष्पदीप ने आगे बताया कि, उन्होंने अपनी फिल्म का नाम ‘जलेबी’ क्यों रखा हैं. इंटरव्यू में पुष्पदीप ने बताया कि, दिल्ली खाने के लिए जानी जाती हैं. इसलिए फिल्म का नाम ‘जलेबी’ रखा गया है. आगें उन्होंने बताया कि, ”फिल्म का जो हीरो है वह अपने पास आने वालों लोगों को पुरानी दिल्ली के जायकों से रूबरू कराता है और कमाल की बात है जब वह लोगों से मिलता है तो उनके चेहरों में वह मिठाइयां ढूंढ़ लेता है. ऐसे ही वह एक लड़की से मिलता है जो बहुत टेड़ी-मेड़ी है लेकिन मीठी है इसलिए वह उसको ‘मेरी जलेबी’ कहकर बुलाता है तो कुछ इस तरह फिल्म का नाम ‘जलेबी’ पड़ा है हालांकि यह फिल्म जिंदगी के टेड़े-मेड़े हालातों को बयां करती है. इसलिए पूरी फिल्म देखने के बाद आपको पता चलेगा कि यह ‘जलेबी’ जिंदगी से कैसे जुड़ी हुई है.”

Published by Lakhan Sen on 19 Oct 2018

Related Articles

Latest Articles