‘स्टेचू ऑफ़ यूनिटी’ से ‘उशिकु दैबुत्सु’ तक पेश हैं आपके समक्ष विश्व की 5 सबसे बड़ी प्रतिमाएं

Get Daily Updates In Email

दुनियाभर में अलग-अलग देशों में कई तरह के स्टेचू बने हुए हैं. सभी अपनी अलग-अलग विशेषताएं लिए हुए हैं. आज ही भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी विश्व के सबसे बड़े स्टेचू ‘स्टेचू ऑफ़ यूनिटी’ का लोकार्पण किया. ऐसे ही विश्व में कईं जगह पर बहुत सारे स्टेचू बने हुए हैं जो अपनी विशालकाई संरचना के लिए जाने जाते हैं. आइए जानते हैं ऐसे ही पांच सबसे बड़े स्टेचू के बारे में.

courtesy

1. स्टेचू ऑफ़ यूनिटी 

भारत के गुजरात राज्य में सरदार सरोवर बांध के पास स्थित है. यह स्टेचू भारत के पहले उप प्रधानमंत्री और लौह पुरुष के नाम से विख्यात सरदार वल्लभ भाई पटेल का है. यह 182 मीटर यानी 597 फीट ऊंचा है. इसे विश्व का सबसे बड़ा स्टेचू घोषित किया गया है.

courtesy

2. लेक्यू सेटक्यार स्टैचू

बर्मा में स्थित दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्टेचू ‘लेक्यू सेटक्यार स्टैचू’ है. इसकी ऊँचाई 130 मीटर है. इसका निर्माण 2008 में कराया गया था. अभी तक यह दुनिया की सबसे बड़ी प्रतिमा थी लेकिन अब भारत की ‘स्टेचू ऑफ़ यूनिटी’ पहले नंबर पर काबिज हो गई है.

courtesy

3. यूशिको डाइबुस्टो

जापान में स्थित यूशिको डाइबुस्टो स्टेचू दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टेचू है. इसकी ऊँचाई 120 मीटर है. स्टैचू साल 1993 में बनकर तैयार हुआ था. ये स्टैचू 10 मीटर लंबे और चौड़े प्लेटफॉर्म पर बना है.

courtesy

4. उशिकु दैबुत्सु

जापान में स्थित उशिकु दैबुत्सु स्टेचू बुद्ध के ही एक रूप की तर्ज पर बना है. इस प्रतिमा की ऊंचाई 110 मीटर है. इसकी खासियत यह है कि पूरी तरह से कांसे से बनी हुई है.

courtesy

5. गुआन यिन ऑफ साउथ

‘गुआन यिन ऑफ साउथ’ नाम से यह स्टेचू चीन में स्थित है. यह प्रतिमा 108 मीटर ऊंची है. चीन के हैनन में स्थित यह प्रतिमा अपनी खूबसूरती और वास्तुशिल्प के अलावा कई तरह के ऐतिहासिक महत्व भी लिए हुए है. चीन की सरकार को इसे बनाने में पूरे छह साल लगे. इस प्रतिमा के तीन चेहरे हैं और चीनी मान्यता के अनुसार देवी इन चेहरों के जरिए दुनिया को अपना आशीर्वाद दे रही हैं.

Published by Yash Sharma on 31 Oct 2018

Related Articles

Latest Articles