SBI बैंक ने आधी की एटीएम से रुपए निकालने की लिमिट, ग्राहकों के लिए कल से लागू होगी घोषणा

Get Daily Updates In Email

त्यौहारों सीजन में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के यूज़र्स के लिए बुरी खबर आई है. देश के सबसे बड़े बैंक ने त्यौहारों के ठीक समय ही यह घोषणा की है कि अब बैंक के यूज़र्स एटीएम से मात्र 20,000 रुपए की रकम ही निकाल सकेंगे. पहले एटीएम से रकम निकालने की अधिकतम सीमा 40000 रुपए थी. इसके बाद त्यौहारों के सीजन में बैंक के करीब 42 करोड़ यूज़र्स पर इसका असर देखने को मिलेगा. इसका रीज़न यह बताया जा रहा है कि इससे होने वाली धोखाधड़ी पर रोक लगेगी. वहीं डिजिटल बैंकिंग को भी बढ़ावा मिलेगा.

courtesy

देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने बुधवार से कुछ कार्डधारकों के लिए एटीएम से कैश निकालने की लिमिट आधी कर दी है. अब लिमिट 40 हजार के बजाए 20,000 रुपए कर दी है. यह कटौती बैंक के क्लासिक और मैस्ट्रो कार्ड धारकों के लिए की गई है. बड़ी संख्या में बैंक के ग्राहकों के पास यही कार्ड हैं. हालांकि अन्य एसबीआई डेबिट कार्ड रखने वाले ग्राहक पहले की तरह एटीएम से राशि निकाल सकते हैं. भारतीय स्टेट बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार एटीएम से प्रति कार्ड औसत नकद निकासी 20,000 रुपए से कम है और इस कदम से धोखाधड़ी को रोकने तथा डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी.

courtesy

एसबीआई ने लगभग एक महीने पहले ही क्लासिक और मैस्ट्रो डेबिट कार्डधारकों को 31 अक्टूबर से एटीएम ने एक दिन में नकद निकासी सीमा घटाकर 20,000 रुपए किए जाने के बारे में सूचना दी थी. भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार पिछले दिनों कह चुके हैं कि बैंक का एनपीए घट रहा है और हमारा पूरा प्रयास है कि ऑनलाइन लेनदेन को पूरी तरह सुरक्षित बनाया जाए जिसमें सफलता भी मिली है.

courtesy

इससे पहले भी एटीएम से जुड़ा हुआ एक केस स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के लिए देखा गया था. जिसमें बैंक ने कहा था कि किसी भी महिला का एटीएम कार्ड उसका पति उपयोग में नहीं ले सकता है. साल 2013 में एक वंदना नाम की महिला ने अपने पीटीआई को एटीएम से पैसे निकालने भेजा था. उस समय वह प्रेग्नेंट थी इसलिए वह नहीं जा सकती थी.

courtesy

वंदना के पति राजेश बैंक के एटीएम जाता है और 25000 रुपए निकालता है लेकिन मशीन में से सिर्फ स्लिप ही बाहर आती है और रुपए उसे प्राप्त नहीं होते है. वहीं बैंक ने भी राजेश को उसकी पत्नी के पैसे देने से मना कर दिया. इस पर वंदना ने अदालत में इसके लिए याचिका दायर की लेकिन कोर्ट ने भी बैंक का सपोर्ट करते हुए उसकी याचिका ख़ारिज करते हुए आदेश निकाला था कि वंदना को रुपए निकलवाने के लिए या तो चेक अपने पति को देना था या फिर एक ऑफिशियल लेटर के साथ अपने पति को रुपए निकलवाने भेजना था.

Published by Yash Sharma on 31 Oct 2018

Related Articles

Latest Articles