WHO ने जारी की भारत के 14 प्रदूषित शहरों की लिस्ट, दिल्ली में बताया प्रदूषण का सबसे ज्यादा स्तर

Get Daily Updates In Email

भारत के साथ ही पूरे विश्व के लोग प्रदूषण से परेशान हैं. यही नहीं वे इससे निपटने के लिए भी कई तरह से तरीके अपना रहे हैं ताकि जल्द से जल्द पूरे विश्व के लोग प्रदूषण से मुक्त हो जाए. हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने प्रदूषण को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है. जिसमें अपने अपनी एक ग्लोबल रिपोर्ट में दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों के नाम जारी किए हैं लेकिन इसकी हैरान करने वाली तो यह है कि इस लिस्ट में भारत के 14 शहरों के नाम भी शामिल हैं.

Courtesy

जी हां, दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में भारत के 14 शहरों का शामिल होना काफी बड़ी बात है. भारत दुनिया का सबसे प्रदूषित देश है. यहां हर साल 20 लाख से ज़्यादा लोग प्रदूषित हवा की वजह से मरते हैं. यह रिकॉर्ड दुनिया की दूसरे देशों के मुकाबले सबसे ज्यादा है. यही नहीं WHO के अनुसार भारत में साल 2016 में 1,10,000 बच्‍चों की मौत हो चुकी है. जिसमें से 5 साल से कम उम्र के 60,987 बच्‍चे शामिल थे जो कि पूरे विश्‍व में सबसे ज्‍यादा है. इसके अलावा जहरीली हवा से 32,889 लड़कियों की मौत हुई है, जो कि लड़कों के मुकाबले काफी ज्यादा है.

Courtesy

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की रिपोर्ट की मानें तो बच्चों की मौत का संबंध देश की हवा को बताया जा रहा है. जो कि लगातार जहरीली होती जा रही है. एक और हैरानी को तो बात यह है कि 5 पांच साल से कम उम्र के बच्‍चों की मौत के मामले में भी भारत सबसे आगे है. बच्चों की मौत का कारण पीएम 2.5 है जो कि वायु प्रदूषण की वजह से और भी तेजी से बढ़ रहा है.

Courtesy

WHO ने प्रदूषण पर जारी की अपनी रिपोर्ट से लोगों को प्रदूषण के लिए सचेत कर दिया है. रिपोर्ट में बताया गया है कि हर साल भारत में 20 लाख से ज़्यादा लोग प्रदूषित हवा के कारण मरते हैं. बात करें वर्ल्डवाइड तो दुनिया में प्रदूषित हवा से होने वाली हर 4 मौतों में से एक भारत में रिकॉर्ड की जा रही है. भारत के 14 प्रदूषित शहरों में दिल्ली भारत का सबसे प्रदूषित शहर है वहीं दूसरे पर कानपुर और तीसरे नंबर पर गुरुग्राम शामिल है.

Courtesy

एनडीएमसी कर्मचारी अरमेंद्र काफी सालों से दिल्ली के सबसे बड़े कचरा भंडार भलस्वा लैंडफिल पर काम कर रहे हैं. यहां आए दिन आग लगती रहती है और ज़हरीली गैस का रिसाव भी होता है. जिसकी वजह से लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है और साथ ही लोगों की सेहत पर भी असर पड़ रहा है.

Courtesy

बता दें कि सोमवार को दिल्ली के आसमान पर कोहरे की परत थी लेकिन समग्र वायु गुणवत्ता एक्यूआई 348 पर पहुंच गई थी. जिसकी जांच में केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इस वायु की गुणवत्ता को ‘बहुत खराब’ तक बता दिया था.

Published by Chanchala Verma on 31 Oct 2018

Related Articles

Latest Articles