85 साल की विजयलक्ष्मी रोज चलाती हैं 35 किमी साइकिल, साथ ही 2 घंटे चलती हैं पैदल

Get Daily Updates In Email

जब भी किसी 85 साल के बुजूर्ग की बात आती है तो सबसे पहला जहन में यही आता है कि इस उम्र का इंसान या तो बिस्तर पर आराम कर रहा होगा या पूजा पाठ में अपना समय व्यतीत कर रहा होगा. लेकिन अगर हम आपको कहें कि कोई 85 साल का बुजूर्ग 35 किलोमीटर साइकिल चला लेता है तो आप को यह बात शायद झूठ लगेगी. लेकिन हमने आपसे जो कहा वह सच है. हैरान न होइए यह सब सच है. 85 साल की विजयलक्ष्मी अरोरा पिछले 50 सालों से रोजाना 35 किलोमीटर साइकिल चला रही हैं. इसके साथ ही वे काफी लम्बी दूरी पैदल भी तय कर लेती हैं. विजयलक्ष्मी के साइकिल चलाने के पीछे एक कहानी भी छुपी है. दरअसल जब वे 35 साल की थीं तब उन्हें अपनी बीमारी की वह से बिस्तर पर आना पड़ा था. उस साल के बाद से वे आज तक कभी बीमार नहीं पड़ीं.

Courtesy

वैसे जब उन्होंने साइकिलिंग की तब घरवालों ने उन्हें खूब रोका लेकिन वे नहीं रुकीं. आज उनकी सेहत के साथ दांत भी सही सलामत है. आज वे सभी उम्र के लोगों के लिए प्रेरणा बन चुकी हैं. उन्हें बच्चे साइकिल वाली दादी कहकर बुलाते हैं. उनसे प्रेरणा लेकर उनका नाती भी जिम चला रहा है. सुबह वे 4 बजे उठ जाती हैं और 5 से 7 बजे तक पैदल चलती हैं. जिसके बाद वे नाश्ता कर के साइकिल लेकर निकल जाती हैं. थोड़ा आराम करके वो फिर से वॉक पर निकल जाती हैं. यही उनकी सेहत का राज है.

Courtesy

विजयलक्ष्मी विधवा हैं और उनके 65 वर्षीय बेटे का भी एक साल पहले स्वर्गवास हो चुका है. विजयलक्ष्मी का कहना है कि नई पीढ़ी सेहत को लेकर संजीदा नहीं है. आधुनिक सुख-सुविधाओं ने नई पीढ़ी को आरामतलब बना दिया है. लोग अब न तो पैदल चलते हैं और न ही किसी प्रकार का शारीरिक व्यायाम करते हैं. इससे उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता घटती जा रही है. इसके अलावा वे बच्चों को संदेश देती हैं कि साइकिल भले न चलाएं, लेकिन वॉक व नियमित व्यायाम जरूर करें.

Published by Chanchala Verma on 05 Nov 2018

Related Articles

Latest Articles