35 रुपए में टाइल्स पैकिंग का काम करने वाले मुनाफ पटेल, आज हैं इंडिया टीम के सफल गेंदबाज

Get Daily Updates In Email

भारतीय तेज गेंदबाज मुनाफ पटेल ने अपनी गेंदबाजी से सभी का दिल पहले ही जीत लिया था. गुजरात के छोटे से गांव से निकले मुनाफ गुजरात टीम के लिए भी खेला करते हैं. अपने इंटरनेशनल करियर में उन्होंने अपनी गेंदबाजी से भारत को कई मैचों में जीत दिलाई है. साथ ही वह विश्वकप 2011 की विजेता टीम का हिस्सा भी रह चुके हैं. मोहाली में उन्होंने टेस्ट पदार्पण पटेल ने पहली पारी में 4/25 सहित पहली बार 7/97 के आंकड़े दर्ज किए और दोनों दिशाओं में गेंद को स्विंग करने की क्षमता प्रदर्शित की थी.

courtesy

मुनाफ ने महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को अपनी गेंदबाजी से काफी प्रभावित किया था. मुनाफ पटेल ने भारत ए की तरफ से प्रथम श्रेणी डेब्यू न्यूजीलैंड के खिलाफ राजकोट में 2003 में किया था. इसके बाद 2006 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ डरबन में उन्हें टेस्ट पदार्पण का मौका मिला. अपने करियर के दौरान मुनाफ ने बड़ौदा, गुजरात और महाराष्ट्र के लिए खेला. आईपीएल में भी वे राजस्थान रॉयल्स, मुंबई इंडियंस और गुजरात लायंस जैसी टीमों का हिस्सा रहे. मुनाफ पटेल ने 69 प्रथम श्रेणी, 140 लिस्ट ए मैंचो में अपनी गेंदबाजी का हुनर दिखाया.

courtesy

मुनाफ ने शुरुआती दौर में गुजरात के भरूच के छोटे से गांव में टाइल्स के डिब्बों की पैकिंग का काम भी किया था. इस काम को करने के लिए उन्हें रोज 35 रुपए मिलते थे. एक इंटरव्यू के दौरान मुनाफ ने कहा था कि अगर वह आज क्रिकेटर नहीं होते तो वह अब भी मजदूरी ही कर रहे होते. मुनाफ ने विश्वकप 2011 में भारत की जीत में मुख्य योगदान दिया था. उन्होंने जबरदस्त गेंदबाजी करते हुए 11 विकेट हासिल किए थे.

courtesy

भारतीय क्रिकेट टीम के हरफमौला गेंदबाज मुनाफ पटेल ने अंतराष्ट्रीय टीम से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है. दाएं हाथ के तेज गेंदबाज मुनाफ ने अपने करियर में भारत के लिए 13 टेस्ट, 70 वनडे और तीन टी20 इंटरनेशनल मैच खेले. 35 साल के मुनाफ ने भले ही अंतराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. लेकिन वह क्रिकेट का मैदान नहीं छोड़ेंगे. वह आगामी टी10 लीग का हिस्सा होंगे. जिसमें वह राजपूत टीम के साथ दिखेंगे.

Published by Yash Sharma on 11 Nov 2018

Related Articles

Latest Articles