चीन के वैज्ञानिकों ने बना दिया खुद का कृत्रिम सूर्य, असल सूर्य से तीन गुना ज्यादा है गर्म

Get Daily Updates In Email

सूर्य ऊर्जा  सबसे बड़ा स्त्रोत है यह बात हम सभी अच्छे से जानते हैं. अगर हम कहे कि ब्रह्मांड में सूर्य के बिना जीवन संभव नहीं है तो यह बात गलत नहीं होगी. बता दें कि सूरज एक तारा है जिसमें हीलियम और हाइड्रोजन जैसी गैस हैं. सूर्य का तापमान 5778 K है. चौंकाने वाली बात तो यह है कि हाल ही में चीन के वैज्ञानिकों ने एक कृत्रिम सूर्य बना लिया है. सुनकर शायद आपको यकीन न हो लेकिन यह बात बिल्कुल सच है. जी हाँ! तो चलिए जानते हैं कृत्रिम सूर्य के बारे में कुछ खास बातें.

courtesy

असली सूर्य के अपेक्षा कृत्रिम सूर्य तीन गुना ज्यादा गर्म है. इस सूर्य का निर्माण इंस्टिट्यूट ऑफ फिजिकल साइंस, चीन के वैज्ञानिकों ने किया है. कई सालों से चीन के वैज्ञानिक सूर्य पर प्रयोग कर रहे थे लेकिन सफलता अब जाकर मिली है. ऐसा कहा जा रहा है कि इस सूर्य में वैज्ञानिकों ने 5 करोड़ डिग्री सेल्सियस तापमान को उत्पन्न किया है. हालांकि इस तापमान को उत्पन्न करने में चीन के वैज्ञानिकों कई साल लग गए हैं.

courtesy

ऐसा भी कहा जा रहा है कि वैज्ञानिकों ने धरती पर ऊर्जा के बढ़ते हुए संकट से निपटने के लिए भी इस कृत्रिम सूर्य  का निर्माण किया है. इस सूर्य से इंसान की जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता काफी हद तक कम की जा सकेगी. खास बात तो यह है कि इस सूर्य में उत्पन्न की गई नाभिकीय ऊर्जा को विशेष तकनीक के द्वारा बदला जाएगा. ताकि पर्यावरण के लिए किसी भी तरह से कोई नुकसान न हो. बता दें कि सूर्य सौरमंडल के केन्द्र में स्थित एक तारा हैं जिसके चारों तरफ पृथ्वी और अन्य ग्रह भी घूमते हैं. 13 लाख 90 हजार किलोमीटर है जो पृथ्वी से लगभग सूर्य पृथ्वी से 109 गुना बड़ा है.

courtesy

जानकारी के लिए आपको बता दें कि सूर्य पूरब से पश्चिम की ओर 27 दिनों में अपने अक्ष पर एक परिक्रमा करता है. पृथ्वी और अन्य ग्रह सूरज की तरह सूर्य भी आकाश गंगा की परिक्रमा करता है. सूर्य यह परिक्रमा 22 से 25 करोड़ वर्ष में कर पाता है. सूर्य के द्वारा इस परिक्रमा में लगने वाले समय को निहारिका वर्ष कहते हैं. सूर्य यह परिक्रमा 251 किलोमीटर प्रति सेकेंड की गति से करता है.

Published by Lakhan Sen on 17 Nov 2018

Related Articles

Latest Articles