मां के साथ पहाड़ चढ़ते समय बार-बार गिरता रहा बेबी भालू, काफी प्रेरणादायी है वीडियो

Get Daily Updates In Email

आपने आज तक कई इंस्पिरेशन वाली वीडियोज देखी होंगी जिनसे आपको जरूर प्रेरणा मिली होगी, लेकिन यहां हम आपको ऐसी एक वीडियो भी दिखाने जा रहे हैं जो आपने शायद ही देखा होगा. इस वीडियो में एक भालू जल्दी से पहाड़ चढ़ता नजर आ रहा है और भालू का बच्चा काफी मशक्कत करता हुआ पहाड़ चढ़ता नजर आ रहा है. यह वीडियो सोशल साइट्स पर खूब पसंद किया जा रहा है.

वायरल हो रहे इस वीडियो में एक भालू का बच्चा अपनी मां के साथ एक बर्फ़ के पहाड़ पर चढ़ने की कोशिश करता नजर आ रहा है. वीडियो की शुरुआत में भालू का बच्चा अपनी मां के साथ बर्फ़ीली ढलान के किनारे खड़ा नजर आ रहा है. मां इस पहाड़ को पार करने के लिए धीरे-धीरे आगे चलती है और उसने पीछे बेबी भालू भी चलता नजर आता है. लेकिन वह बार-बार फिसल जाता है. लेकिन वह कामयाब नहीं हो पाता.

Courtesy

वीडियो में आगे बेबी भालू हार नहीं मानता बल्कि मशक्कत करता ही रहता है. एक समय तो यह आता है कि भालू का बच्चा काफी ऊंचाई से नीचे गिर जाता है जिसे देखकर यही लगता है कि अब यह शायद नहीं बच पाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ. भालू के बच्चे ने हिम्मत नहीं हारी और वह फिर से पहाड़ चढ़ने की कोशिश करता रहा और आखिरकार वह अपनी मां के पास पहुंच गया.

लोग इस वीडियो को खूब शेयर कर रहे हैं और इसे पसंद भी कर रहे हैं. इस वीडियो को रूसी फ़ोटोग्राफ़र दिमित्रि केद्रोव ने ड्रोन के ज़रिए फिल्माया था. इदाहो यूनिवर्सिटी के प्रकृति विज्ञानी सोफ़ी गिल्बर्ट इस वीडियो को देखकर कहते हैं कि भालू की नज़र से देखें तो उसके लिए ये अज्ञात उड़ती हुई वस्तु यानी यूएफ़ओ है. उसने कभी जीवन में अगर ऐसी चीज़ नहीं देखी होगी और उसके साथ बच्चा हो तो निश्चित तौर पर उसकी प्रतिक्रिया ऐसी ही होगी.

आगे नेशनल ज्योग्राफ़िक का मानना है कि ड्रोन की मौजूदगी ने भालुओं के लिए ख़तरनाक स्थिति पैदा कर दी थी. हो सकता है कि ड्रोन से बचने के प्रयास में भालू ने चोटी पर पहुँचने के लिए मुश्किल रास्ता चुना हो. आमतौर पर भालू जब अपने बच्चों के साथ होते हैं तो कठिन रास्ता चुनने से बचते हैं. आगे दिमिग्रा केद्रोव ने अपने वीडियो का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने जानवरों को किसी तरह की बाधा नहीं पहुंचाई और वीडियो में जो हिस्सा जानवरों को बेहद नज़दीक दिखा रहा है, वो दरअसल, ज़ूम इफ़ेक्ट है और वीडियो के पोस्ट प्रोडक्शन का हिस्सा है. केद्रोव ने कहा कि ड्रोन की आवाज़ सुनने से पहले बेबी भालू कई बार बर्फ़ की चट्टान पर कई बार फिसल चुका था. ये जानवरों का रोज़मर्रा का जीवन है और हम लगातार इसकी निगरानी करते रहते हैं.

Courtesy

इसके विपरीत प्रकृति विज्ञानियों का कहना है कि इसके तमाम उदाहरण हैं जिनसे साबित होता है कि ड्रोन की मौजूदगी और इसकी आवाज़ दोनों ही जानवरों के व्यवहार पर असर डालते हैं.

Published by Chanchala Verma on 19 Nov 2018

Related Articles

Latest Articles