हमारे देश में मिलने वाले ऐसे 5 पोपुलर प्रोडक्ट जिन्हें विदेशों में नहीं करने दिया जाता उपयोग

Get Daily Updates In Email

यह बात हम सभी को पता है कि भारतीय खाने के चर्चे पूरी दुनिया में हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि हमारे देश में मिलने वाली कुछ चीजें विदेश में पूरी तरह से प्रतिबंधित हैं. जी हां! इस खबर में हम आपको बताने वाले हैं हमारे देश में मिलने वाली उन 5 चीजों के बारे में जिन्हें विदेशों में उपयोग करने की इजाजत नहीं है. आइए जानतें है इन 5 चीजों के बारे में जो विदेश में बैन हैं-

टोमेटो कैचअप:

courtesy

हमारे देश के लोग बैक समोसा से लेकर कई बार खाने में तक टोमेटो कैचअप खा लेते हैं. लेकिन फ्रांस में टोमेटो कैचअप पर पूर्ण रुप से प्रतिबन्ध लगा हुआ हैं. ऐसा कहा जाता हैं कि फ्रांस सरकार ने यह निर्णय पर्यटक को ध्यान में रखते हुए लिया है. दरअसल सरकार का मानना है कि देश में आया हुआ पर्यटक वहां की रैसिपी का लुफ्त उठाए न कि टोमेटो कैचअप का.

वेजिटेरियन फूड:

courtesy

आपको सुनकर भले ही यकीन न हो लेकिन यह सच है कि फ्रांस के स्कूलों के कैंटीन में वेजिटेरियन फूड प्रतिबंधित है. अगर स्कूल में कोई बच्चा वेजिटेरियन फूड खाता है तो उसके स्कूल आने पर प्रतिबन्ध लगा दिया जाता है. दरअसल यहां की सरकार का मानना है कि बच्चों को ज़रूरी पोषक तत्व मांसाहारी खानों से ही मिलता है. इसलिए सरकार ने वेजिटेरियन फूड पर प्रतिबन्ध लगा दिया है.

खुला दूध और बादाम:

courtesy

हमारे देश में दूध दुकान पर खुला मिलता है. इसके अलावा दूध देने वाला घर पर ही आकर दूध दे देता है. लेकिन विदेशो में ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. बता दें कि अमेरिका में खुला दूध बेचने पर पूर्ण रूप से पाबंदी है. इसके अलावा बादाम बेचने पर पाबंदी लगाई गई है. दरअसल अमेरिकी सरकार का मानना है कि खुला दूध और बादाम बेचने से इनमे कीटाणु शामिल हो जाते हैं.

समोसा:

courtesy

भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाला समोसा विदेश में बिल्कुल भी नहीं बिकता हैं. सोमालिया देश में समोसा पर बैन लगा हुआ है. बता दें कि सोमालिया में सरकार के आदेशानुसार साल 2011 से समोसा नहीं बेचा गया है.

च्युइंगम:

courtesy

हमारे देश के ज्यादातर लोग च्युइंगम खाना पसंद करते हैं. लेकिन सिंगापुर में च्युइंगम पर प्रतिबन्ध लगा हुआ है. अगर कोई भी व्यक्ति सिंगापुर की गलियों में च्युइंगम खाते हुए पाया जाता हैं. तो उस पर जुर्माना लगाया जाता है.

Published by Lakhan Sen on 20 Nov 2018

Related Articles

Latest Articles