अफगानी बल्लेबाज शहजाद मानते हैं धोनी को अपना गुरु, उनके लिए छोड़ सकते हैं नींद और खाना

Get Daily Updates In Email

अफगानिस्तान के बल्लेबाज मोहम्मद शहजाद ने दुबई में शुरू हुई टी-10 लीग में बड़ा धमाका किया है. ओपनिंग मैच में ही धमाकेदार पारी खेलकर उन्होंने टूर्नामेंट के जोरदार शुरुआत की नींव रखी है. शहजाद ने 16 गेंदों पर 74 रन ठोके, जिसमें 8 छक्के, 6 चौके और सिर्फ 2 सिंगल रन शामिल रहे.

courtesy

30 साल के शहजाद बल्लेबाजी के मामले में भारती टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को अपना आदर्श मानते हैं. वह उन्हीं के अंदाज को फॉलो करते हैं. धोनी की तरह वो भी अपनी टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज हैं और साथ ही वह भी धोनी की तरह ही हेलीकाप्टर शॉट मारते हैं. एक इंटरव्यू में शहजाद ये खुलकर बोल चुके हैं कि वैसे तो वह खाने और सोने में कोई समझौता नहीं करते हैं लेकिन अगर धोनी क्रीज पर होंगे तो वह उनकी पारी देखने के लिए कभी भी जाग सकते हैं. शहजाद ने यह भी कहा था कि अगर उन्हें नींद आ रही होगी तो वह पानी पीकर जागते रहेंगे लेकिन धोनी की पारी पूरी देखेंगे.

courtesy

मोहम्मद शहजाद को एमएस भी कहा जाता है जो धोनी का भी निकनेम है. इसके साथ-साथ शहजाद 77 नंबर की जर्सी पहनते हैं. शहजाद ने धोनी को देखकर ही जर्सी का ये नंबर चुना है. धोनी 7 नंबर की जर्सी पहनते हैं जो कि उनका लकी नंबर भी है.

courtesy

शहजाद ने एक इंटरव्यू में कहा था कि एक समय था जब भारतीय टीम वेस्टइंडीज में फाइनल मैच खेल रही थी. धोनी पारी के अंत में बल्लेबाजी कर रहे थे और अंतिम ओवर में तकरीबन 15 रन चाहिए थे. वह रमजान का समय था. इफ्तार में 3-4 मिनट का समय बचा था और खाना मेरे सामने रखा था कहते हैं कि उस समय अल्लाह से जो भी मांगो, वो मिल जाता है.

courtesy

शहजाद ने आगे कहा कि धोनी उस मैच से पहले चोटिल थे और वह सिर्फ फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ खेलने उतरे थे. अंतिम ओवर में 15 रन चाहिए थे. मैंने अल्लाह से कहा कि भारत वह मैच जीते और धोनी इस मैच को खत्म करें. उस समय मैंने अपने खाने के समय को आगे बढ़ा दिया था. यानी मैं नींद का भी बलिदान दे सकता हूं.

Published by Yash Sharma on 25 Nov 2018

Related Articles

Latest Articles