अगर नहीं होता मैरी कॉम का दिल जिद्दी तो आज 6 गोल्ड जीतने वाली दुनिया की पहली महिला बॉक्सर न होती

Get Daily Updates In Email

एमसी मैरीकॉम ने विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में यूक्रेन की हना ओखोता को 5-0 से हराकर छठी बार स्वर्ण पदक जीत लिया है. इसी के साथ वे दुविश्व चैम्पियनशिप में छह गोल्ड जीतने वाली दुनिया की पहली महिला बॉक्सर बन गई हैं. इसके अलावा वे विश्व चैम्पियनशिप (महिला और पुरुष) में सबसे ज्यादा पदक जीतने वाली मुक्केबाज भी बन चुकी हैं. अभी तक यह रिकार्ड क्यूबा के फेलिक्स सेवोन का नाम था. बता दें कि फेलिक्स ने 1986 से 1999 के बीच छह स्वर्ण और एक रजत पदक अपने नाम किए थे.

48 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में स्वर्ण पदक जीतने वाली मैरीकॉम का इस मुकाम तक पहुंचना बेहद संघर्षपूर्ण रहा है. 2007 में जुड़वा बेटों को जन्म देने के बाद जब मैरी कॉम ने रिंग में वापसी करने का फैसला लिया. तो उनके कोच ने मैरीकॉम से बुरा बर्ताव किया था. दरअसल जुड़वा बेटों को जन्म देने के बाद जब मैरीकॉम सेलेक्शन ट्रॉयल के लिए गई थीं. तो पुरुष कोच को मैरीकॉम में पहले जैसी ताकत और फुर्ती नहीं दिखी.

इसके बाद कोच ने मैरीकॉम से कहा कि, अगर तुम फिट नहीं हो तो घर में जाकर बैठो, बॉक्सिंग करने की क्या जरूरत है. यह सुनते ही मैरीकॉम ने कोच से विनती की और कहा कि थोड़े दिनों में सब ठीक हो जाएगा. लेकिन कोच ने मैरी की एक बात भी न मानी. मैरी कॉम को कोच की इन बातों और बर्ताव का इतना बुरा लगा कि उन्होंने ठान लिया कि अब पीछे नहीं हटना है. चाहे कुछ भी हो जाए अब तो विश्व चैंपियन बनना है. फिर क्या था…मैरी ने दिन रात मेहनत की और अगले साल यानि 2008 में मैरीकॉम विश्व चैंपियन का खिताब जीतने में कामयाब रहीं.

मैरी कॉम का असली करियर तो 2008 के बाद शुरू हुआ था. इसके बाद 2009 में एशियन इंडोर गेम्स में स्वर्ण पदक जीता था. 2010 विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक, 2012 लंदन ओलिंपिक में कांस्य पदक, 2010 एशियाई खेलों में कांस्य पदक, 2011 एशियन वुमेन कप में स्वर्ण, 2012 एशियन वुमेन चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक, 2014 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक, 2018 कॉमनवेल्थ खेलों में स्वर्ण पदक जीता.

 

बता दें कि अब मैरीकॉम 2020 टोक्यो ओलिंपिक की तैयारी करने में जुट जाएंगी. इस चैम्पियनशिप में उतरने से पहले मैरीकॉम ने खुद कहा था कि, वे सौ फीसदी फिट हैं और 2020 टोक्यो ओलिंपिक में भी उतरेंगी.

Published by Lakhan Sen on 26 Nov 2018

Related Articles

Latest Articles