केबीसी में कपिल के साथ पहुंचे रवि कालरा घर से बेघर हो जाने वाले माता-पिता को देते हैं आश्रय

Get Daily Updates In Email

बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन इन दिनों अपने क्विज शो कौन बनेगा करोड़पति के 10 वे सीजन को लेकर चर्चा में बने हुए हैं. इस बार का सीजन भी दर्शकों को पसंद आया. लेकिन इस बार शो में सिर्फ एक शख्स बिनीता जैन ही करोड़पति बन पाईं. उन्होंने शो में 1 करोड़ की धनराशी जीती. इसके बाद कोई भी करोड़पति नहीं बन पाया है. शो का इस बार का सीजन भी जल्द ही खत्म होने वाला है और शो के आखिरी एपिसोड यानि ग्रैंड फिनाले में कॉमेडी किंग कपिल शर्मा पहुंचे हैं.

कपिल के अलावा इस एपिसोड में उनके साथ The Earth Saviours Foundation Gurukul NGO के संस्थापक रवि कालरा भी मौजूद रहेंगे. दोनों इस एपिसोड में एक साथ खेलते नजर आने वाले हैं. बेशक शो में कपिल शर्मा को देखना बेहद दिलचस्प होगा. कपिल के अलावा रवि कालरा ने भी शो ने कई ऐसी बातें बताई जिसे सुनकर वहां मौजूद लोग और बिग बी हैरान रह गए. रवि कालरा जिस NGO से जुड़े हैं वह NGO उन उन बूढ़े बेसराहा बुजूर्गों को आश्रय देता है जिनके बच्चे उन्हें घर से निकाल देते हैं.

शो में रवि ने बताया कि इस देश में यूं तो बहुत से श्रवण कुमार हैं लेकिन कुछ ऐसे भी बच्चे हैं जो अपने माता पिता की जायदाद को हड़प लेते हैं और उन्हें घर से निकाल देते हैं. शो के दौरान रवि ने जो घटना बताई वह वाकई हैरान करने वाली है. रवि ने बताया कि उनके पास एक ऐसा मामला आया था जिसमें एक शख्स के पिता कोमा में चले गए थे. उस लड़के ने धोखाधड़ी करके अपने पिता का घर बेच दिया. इसके बाद उसने अपना अमेरिका का ग्रीन कार्ड बनवाकर पिता को किराए के कमरे में बंद कर दिया. इतना ही नहीं उस लड़के ने उस कमरे में बड़े-बड़े चूहे छोड़ दिए. यह बात सुनकर अमिताभ भी सहमे नजर आए.

आगे उन्होंने बताया कि वह देर रात को निकलकर ऐसे लोगों को ढूंढते हैं जिन्हें कीड़े पड़े होते हैं या जो लाइलाज बीमारियों से ग्रसित होते हैं. रवि ने बताया कि आज कल हालत ये हो गए हैं कि बच्चे अपने मां-बाप की अस्थियां लेने तक नहीं आते हैं. कपिल भी यह सब सुनकर भावुक हो गए और उन्होंने कहा कि मैं हैरान हूं कि बच्चे अपने मां-बाप के साथ ऐसा कर सकते हैं.

यहां आए कपिल ने कहा, अगर आप अपने मां-बाप के साथ ऐसा कर रहे हैं, तो वो दिन दूर नहीं है कि आपके बच्चे भी आपके साथ ऐसा ही करेंगे. बेशक रवि कालरा का यह काम काफी प्रशंसनीय है. वे अब तक 6000 लावारिश लाशों का पूरे विधि विधान से अंतिम संस्कार कर चुके हैं.

Published by Chanchala Verma on 27 Nov 2018

Related Articles

Latest Articles