सन्यास के बाद गंभीर ने इंटरव्यू में बताया, सचिन और सहवाग के साथ मुझे टीम में नहीं लेना चाहते थे धोनी

Get Daily Updates In Email

अभी कुछ दिन पहले ही भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी गौतम गंभीर ने क्रिकेट के सभी फॉरमेट से सन्यास ले लिया है. क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्होंने 10,000 से अधिक रन बनाए थे. 37 वर्षीय बल्लेबाज ने सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट कर अपने सन्यास की घोषणा की थी. क्रिकेट से सन्यास लेने के बाद एक न्यूज चैनल को दिए गए इंटरव्यू में अपने करियर पर खुलकर बातचीत की.

इस इंटरव्यू में गौतम गंभीर ने महेंद्र सिंह धोनी द्वारा अपनी कप्तानी में लिए गए एक फैसले पर असहमति जाहिर की है. इंटरव्यू में गंभीर ने कहा, धोनी ने ऑस्ट्रेलिया में साल 2012 में खेली गई सीबी सीरीज के दौरान मुझे और सचिन तेंदुलकर एवं वीरेंद्र सहवाग को एक साथ टीम में से खेलने का मौका नहीं दिया था.

आगें उन्होंने बताया कि, ‘ट्राई सीरीज में धोनी ने कहा था कि वह हम तीनों को एक साथ नहीं खिला सकते क्योंकि उन्हें 2015 वनडे विश्व कप के लिए टीम तैयार करनी है. यह एक बड़ा झटका था, मुझे लगता है कि मेरी जगह किसी भी क्रिकेटर के लिए यह तगड़ा झटका होता.’

View this post on Instagram

Timing is the key. Hence my trusted Apple Watch.

A post shared by Gautam Gambhir (@gautamgambhir55) on

सन्यास लेने के बाद गंभीर ने एक और बयान दिया था. इसमें उन्होंने अपना दर्द बयां करते हुए बताया था कि उन्हें विश्वकप 2015 की टीम में शामिल ना होने का भी अफ़सोस है. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि उनका धोनी के साथ कोई विवाद नहीं है. उन्होंने कहा कि, उनके साथ खिलाड़ियों ने अगले दो-तीन विश्वकप भी खेले थे लेकिन उन्हें इसका कोई मौका नहीं दिया गया. जिसका उन्हें बहुत अफ़सोस रहेगा.

#UnBeaten

Cricket in my next life too but with a rider. Wanna open the batting and bowling too.#UnBeaten Indian Cricket Team

Gepostet von Gautam Gambhir am Mittwoch, 5. Dezember 2018

बता दें कि गंभीर ने 4154 रन 41.95 की औसत से सिर्फ टेस्ट में बनाए हैं. उन्होंने ये रन नौ शतकीय पारी के बदौलत बनाए हैं. जबकि उन्होंने वनडे मैचों में 5238 रन बनाए हैं. गंभीर ने टी20 इंटरनेशनल मैचों में 932 रन बनाए हैं. जबकि इन्होंने कुल 37 टी20 मैच खेले हैं. गंभीर ने 197 फर्स्ट क्लास मैचों में 15041 रन बनाए. वहीं साल 2003 में ढाका में बांग्लादेश के खिलाफ वनडे खेलकर गंभीर ने अपने करियर की शुरुआत की थी. पहले मैच में इन्होंने सिर्फ 11 रन बनाए थे. जबकि 2004 में मुंबई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलकर गंभीर ने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी.

Published by Lakhan Sen on 10 Dec 2018

Related Articles

Latest Articles