आप भी कर सकते हैं बच्चों और घर के कामों से आने वाले स्ट्रेस को कम करने में अपनी पत्नी की मदद

Get Daily Updates In Email

सिंगल महिलाओं की बजाय शादीशुदा महिलाओं के लिए डेली लाइफ काफी स्ट्रेसफूल होती है. उन्हें अपना काम, शादी, फैमिली का ध्यान रखना जैसे कई काम होते हैं. लेकिन एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि 46% प्रतिशत पत्नियों का मानना है कि बच्चे पतियों से कम तनाव पैदा करते हैं. लेकिन यह मिसबिहेव से जुड़ा नहीं है. अगर ऐसे में किसी भी महिला को उसके पति का सपोर्ट मिल जाए तो यह दोनों के लिए काफी मददगार साबित हो सकता है. तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि आप अपनी पत्नी का स्ट्रेस कम करने में उनकी किस तरह से मदद कर सकते हैं.

1. A husband acts like an extra child

Courtesy

किसी भी पिता का रिलेशन अपने बच्चे से एक फ्रेंड जैसा ही होता है. रिसर्च में पाया गया है कि 43 साल की उम्र तक पुरुष बच्चों की तरह व्यवहार करते हैं. रिसर्च में यह भी पाया गया है कि एक 7 साल का बच्चा 7 साल का होगा लेकिन 7 वर्षीय की तरह 35 वर्षीय अभिनय अधिक तनावपूर्ण है क्योंकि उन्हें बेहतर पता होना चाहिए. सभी पेरेंट्स अपन बच्चों के पालन पोषण, अनुशासन, स्वास्थ्य और शैक्षिक विकास से संबंधित मुद्दों को लेकर चिंतित रहते हैं. अक्सर माएं अपने बच्चों के इन कामों के लिए उन्हें डांटती हैं जिस वजह से वे बेड कोप बन जाती हैं. इन्हीं सब वजहों की से पति पत्नी के बीच तनाव और झगड़े होने लगते हैं. तो चलिए अब हम आपको इससे निपटने की तरकीब बताते हैं.

solution

इस समस्या से निपटने का सबसे बेहतर सोल्यूशन है यूनिटी. अगर माता-पिता में से कोई एक बच्चे को किसी काम के लिए मना करता है, तो दूसरे को इस निर्णय का समर्थन करना चाहिए. एक साथ काम करना और बच्चों पर लगाए गए प्रतिबंधों और अनुमतियों पर सहमत होना जरूरी है. बच्चों के लिए स्विमिंग टीम का चुनाव करना, उनके विटामिन चुनना इस सब कामों में एक पति अपनी पत्नी के भार को कम करने में मदद कर सकता है.

2. Household chores that a woman does become overwhelming

 

Courtesy

एक रिसर्च में पाया गया है कि 5 माताओं में से एक का मानना है कि डेली लाइफ के कामों में पति की मदद नहीं मिलना भी स्ट्रेस का एक कारण है. पत्नियां घर के कामों में ज्यादातर समय बिताती हैं लेकिन पति आराम करने में ज्यादा समय बिताते हैं. महिलाओं के कामों में खाना बनाने और सफाई करने के अलावा बिलों का भुगतान करना, किराने की खरीदारी करना और बजट की योजना बनाने जैसे काम शामिल हैं. ये सभी काम घर को सुचारू रूप से चलाने के लिए जरूरी हैं. अगर कोई पत्नी अकेले घर का ख्याल रखती है, तो उसका तनाव बढ़ जाता है.

Solution

इस समस्या से निपटने के लिए एक पति अपनी पत्नी को घर के काम के साथ मदद कर सकता है. घर की जिम्मेदारियों को एक-दूसरे के साथ बांटना एक सक्सेसफुल शादी का सबसे बड़ा कारण होता है. पति और पत्नी दोनों को एक-दूसरे के प्रयासों की सराहना करनी चाहिए क्योंकि किसी का काम छोटा नहीं होता भले ही वह आपको पैसा न दे.

3. A woman feels guilty and lacks free time

Courtesy

जितनी चीजें अभी तक हमने आपको बताई उससे यह भी साफ़ होता है कि पत्नियों के पास खाली समय की भी कमी होती है. सुबह से शाम वे काम में ही लगी रहती हैं जिसकी वजह से उनका तनाव बढ़ जाता है. महिला 24 घंटों में सबकुछ करने की कोशिश करती है, लेकिन इसकी वजह से उनसे कभी-कभी गलतियां हो सकती हैं. एक पत्नी के साथ बच्चों, पति और घर की जिम्मेदारियां होती हैं और कुछ गलत होने पर वह खुद को दोषी महसूस कर सकती है.

Solution

पत्नियों के पास कम समय होने की वजह से आने वाले स्ट्रेस को कम करने के लिए उनके पति बच्चों के काम करके या घर के कुछ काम करके उनकी मदद कर सकते हैं. इसके साथ ही उन्हें घर की जिम्मेदारियों में भी हिस्सा लेना चाहिए. क्योंकि दोनों मिलकर किसी भी समस्या का समाधान कर सकते हैं. इसलिए सबसे अच्छा ऑप्शन यही है कि दोनों साथ मिलकर काम करें ताकि स्ट्रेस कम हो और दोनों अच्छे से फैमिली डेवलप कर पाएं.

Published by Chanchala Verma on 24 Dec 2018

Related Articles

Latest Articles