विराट बने भारतीय टेस्ट इतिहास के बेहतरीन कप्तान, गांगुली और धोनी से महज एक कदम पीछे

Get Daily Updates In Email

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुई चार मैंचो की टेस्ट सीरीज में भारत ने अपने नाम कर ली है. ‘विराट सेना’ ऑस्‍ट्रेलियाई सरजमीं पर सीरीज जीतने वाली पहली एशियाई टीम बन गई है. यह कामयाबी ना सिर्फ कप्‍तान विराट कोहली बल्कि भारतीय क्रिकेट के लिए भी मील का पत्‍थर है. आखिर इस जीत ने विदेशी धरती पर बतौर कप्‍तान विराट कोहली का कद बहुत ऊंचा कर दिया है. जबकि कोहली मौजूदा दौर के सर्वश्रेष्‍ठ बल्‍लेबाज़ हैं और साथ ही अब वह बेहतरीन कप्तान भी बन गए हैं.

पूर्व महान कप्तान सौरव गांगुली की विराट कोहली ने बराबरी कर ली है. अब तक विदेशी सरजमी पर 11 मैच जीतकर दोनों ही कप्तान बराबर हैं. जबकि सिडनी टेस्‍ट के ड्रॉ होने के कारण विराट टीम को सबसे अधिक टेस्‍ट जीत दिलाने का रिकॉर्ड बनाने से भी चूक गए हैं. पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी और विराट ने 26-26 बार टीम को जीत दिलाई है. बेशक धोनी से विराट एक कदम पीछे हैं और उन्‍हें पछाड़ने के लिए 2019 वर्ल्‍ड कप के बाद तक इंतजार करना पड़ेगा.

जनवरी 2015 में इसी सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर धोनी के बाद इंडिया के अगले कप्तान के तौर पर विराट ने टीम की कप्‍तानी संभाली थी. वैसे वह 9 दिसंबर, 2014 से ऐडिलेड में शुरू हुए टेस्‍ट में भी कप्‍तान थे. लेकिन तब उन्‍होंने यह जिम्‍मेदारी धोनी की अनुपस्थिति में संभाली थी. इससे भी हैरानी की बात यह है कि जब विराट को टीम की कप्‍तानी मिली उस वक्‍त भारत दुनिया की सातवें नंबर की टीम थी और अब वह नंबर एक टीम है.

कोहली ने 2014 में सिडनी से ही अपनी कप्‍तानी की शुरुआती की थी और तब से लेकर अब तक वह 46 टेस्‍ट में कप्‍तानी कर चुके हैं. इसमें से 26 बार उनकी जीत हुई है तो 10 बार हार का सामना करना पड़ा है. वहीं 10 टेस्‍ट ड्रॉ रहे हैं. कोहली का जीत प्रतिशत देखे तो 56.52 प्रतिशत है जो कि भारतीय रिकॉर्ड है. अगर जीत की बात करें तो वह धोनी के रिकॉर्ड से सिर्फ वह एक कदम पीछे हैं.

Published by Yash Sharma on 09 Jan 2019

Related Articles

Latest Articles