चीन ने उगा दिया चांद पर पौधा, पनप रहा है चांद की सतह पर कपास

Get Daily Updates In Email

चांद पर जाना हर किसी का सपना है और देश के वैज्ञानिकों ने इसे पूरा करने का रास्ता भी हमें दिखा दिया है. अपने परीक्षणों और मेहनत के बाद वैज्ञानिक चांद पर जाने में सफल हुए हैं. इस सफलता के बाद अब चीन के वैज्ञानिकों ने एक और सफलता हासिल ही है. बता दें चीन के वैज्ञानिक चांद पर कपास के बीज अंकुरित करने में कामियाब हो गए हैं. चीन की ओर से चांद पर रोवर चांगी-4 पर कपास के बीज अंकुरित करने के लिए भेजे गए थे जो कि अब अंकुरित हो गए हैं. यह भी बता दें कि यह पहना मौका है जब चांद पर कोई पौधा पनप रहा है. इस बात की जानकारी वैज्ञानिकों ने मंगलवार को दी है. साथ ही वैज्ञानिक उम्मीद कर रहे हैं कि जल्द ही आलू के बीज भी अंकुरित होंगे. चोंगकिंग विश्वविद्यालय के एडवांस्ड टेक्नोलॉजी रिसर्च इंस्टिट्यूट ने जो फोटोज शेयर किए हैं उनके हिसाब से यह अंकुर एक डिब्बे के भीतर मौजूद जालीनुमा ढांचे में पनपा है.

इस एक्सपेरिमेंट को करने वाले शाइ गेंगशिन ने कहा कि यह पहला मौका है, जब मानव ने चंद्रमा की सतह पर पौधों के विकास के लिए प्रयोग किए. चांगी-4 तीन जनवरी को चंद्रमा के सबसे दूर के हिस्से में उतरा था. इसके अलावा चोंगकिंग यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने यह भी बताया कि हमने पानी और मिट्टी से भरा एक डिब्बा भेजा था. यह कोई 18 सेंटीमीटर का है. इसके अंदर कपास, आलू और सरसों के बीज के साथ-साथ फ्रूट फ्लाई के अंडे और ईस्ट भेजे गए. वहीं यूनिवर्सिटी ने बताया कि अंतरिक्षयान से भेजी गई तस्वीरों में देखा गया कि कपास के अंकुर बढ़िया से विकसित हो रहे हैं, लेकिन अब तक अन्य पौधों के बीजों के अंकुरित होने की खबर नहीं है.

Courtesy

3 जनवरी को चीन ने धरती से नजर नहीं आने वाले चंद्रमा के पिछले हिस्से पर अपना स्पेसक्राफ्ट चांगी-4 उतारा. यह पहली बार है जब किसी स्पेसक्राफ्ट ने चांद के इस हिस्से में लैंडिंग की है. बता दें चांद का सिर्फ एक ही हिस्सा धरती से नजर आता है जिसकी वजह यह है कि जिस गति से चांद धरती का चक्कर लगाता है उसी गति से वह अपनी धुरी पर भी घूमता है. जिस वजह से उसका दूसरी तरफ का हिस्सा कभी भी धरती के सामने नहीं आ पाता.

Published by Chanchala Verma on 16 Jan 2019

Related Articles

Latest Articles