नीता अम्बानी ने IVF तकनीक के जरिये दिया था दोनों बच्चों को जन्म, जानिये यह तकनीक

Get Daily Updates In Email

मुकेश अम्बानी की बेटी ईशा अपनी शादी के बाद से काफी चर्चा में बनी ही हैं. शादी के एक महीने बाद उन्हें मशहूर मैगज़ीन वोग के कवर पेज पर देखा गया. वोग को दिए इंटरव्यू में उन्होंने अपनी निजी ज़िन्दगी और शादी के बाद हुए बदलाव को लेकर काफी चर्चा भी की. इंटरव्यू में अपने काम, शादी से पहले की लाइफ और शादी के बाद की लाइफ के साथ-साथ भविष्य में वह क्या करने के बारे में सोचती हैं इस बारे में भी काफी कुछ बताया.

इसी दौरान उन्होंने बताया कि वह और उनका जुड़वां भाई आकाश दोनों आईवीएफ किड्स हैं. मुकेश अंबानी और नीता अंबानी की शादी के 7 साल बाद इस तकनीक की मदद से ईशा अंबानी और आकाश अंबानी का जन्म हुआ था. ईशा आगे कहती हैं कि, ‘जब आखिरकार हमारा जन्म हुआ तो शुरुआत में हमारी मां चाहती थीं कि वह फुल-टाइम मां बनीं रहें. बाद में जब हम दोनों भाई-बहन 5 साल के हो गए उसके बाद वह अपने काम पर वापस लौटीं. हालांकि काम पर लौटने के बाद भी वह हमेशा एक टाइगर मॉम रहीं.’

ईशा ने यह भी बताया कि, ‘पापा से ज्यादा मां स्ट्रिक्ट स्वभाव की थीं. हमारी परवरिश में मेरे दादा- दादी, नाना-नानी और मेरी मांसी का सबसे बड़ा हाथ है.’ वह आगे कहती हैं कि, ‘मैंने अपने पापा को कड़ी मेहनत कर अपने सपने को पूरा करते और रिलायंस को उस मुकाम पर ले जाते देखा है, जहां आज वह हैं. कई घंटे काम के बावजूद वे हमारे लिए वहां मौजूद रहे जहां हमें उनकी जरूरत पड़ी. घर में उन्होंने वही वैल्यू सिस्टम अपनाया जिसके तहत हमारे पेरेंट्स बड़े हुए. उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि हम पैसे, कड़ी मेहनत और विनम्रता के मूल्य को भलीभांति समझें.’

आई वी एफ के बारे में बता दें कि इसे ‘इन विट्रो फर्टिलाइजेशन’ कहते हैं. यह असिस्टेड प्रोसेस ऑफ फर्टिलाइजेशन है जिसकी मदद से कपल को गर्भधारण करने में मदद की जाती है. इस तकनीक को इन विट्रो फर्टिलाइजेशन इसीलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें स्पर्म द्वारा अंडों का फर्टिलाइजेशन लैब में होता है. इसके बाद उस भ्रूण को वापस गर्भाशय में इम्प्लांट कर दिया जाता है.

Published by Yash Sharma on 02 Feb 2019

Related Articles

Latest Articles