मारिया ने पूरा किया सबसे लंबा वेडिंग गाउन पहनने का सपना, गिनीज बुक में करवाया नाम दर्ज

Get Daily Updates In Email

हर किसी के अपनी शादी को लेकर ढ़ेरों सपने होते हैं. हर कोई अपनी शादी से जुड़ा हर सपना पूरा करने की पूरी कोशिश करता है. यही नहीं हर कोई इंसान अपनी शादी में कुछ अलग और कुछ खास चीज़ करना भी चाहता है. यहां हम आपको ऐसी ही एक ब्राइड के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने शादी की वजह से अपना नाम गिनीज बुक में दर्ज करवा लिया है. अब आप सोचेंगे की आखिर ऐसी कौनसी खास बात है कि किसी ब्राइड का नाम गिनीज बुक में दर्ज हो गया…..तो आपको बता दें कि इस ब्राइड ने अपनी शादी में अब तक का सबसे लंबा वेडिंग गाउन पहना है जिसकी वजह से उनका नाम गिनीज बुक में दर्ज किया गया है.

Courtesy 

सबसे लंबा वेडिंग गाउन पहनने वालीं इस ब्राइड का नाम है मारिया जिन्होंने अपनी शादी में 7 हजार मीटर लंबा गाउन पहना था. जिसकी वजह से उनका नाम गिनीज बुक और वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया गया है. बताते चलें यह दुनिया का सबसे लंबे गाउन है. बता दें यह मारिया का सपना था कि वे वर्ल्ड रिकार्ड बनाएं जो कि अब पूरा हो चूका है. बताते चलें मारिया ने अपने इस वेडिंग गाउन को डिज़ाइन करवाने के लिए करीब 3 लाख 18 हजार रुपए खर्च किए हैं. इस गाउन की साइज इतनी ज्यादा है कि इसके अंदर 63 अमेरिकन फुटबॉल ग्राउंड ढंके जा सकते हैं.

Courtesy 

मारिया ने अपना नाम गिनीज बुक में दर्ज तो करवा लिया लेकिन इस वेडिंग गाउन को बनवाना बड़ी मेहनत का नाम था. इसके लिए कारीगरों को ढूंढना मेहनत का काम था. बहुत मेहनत के बाद उन्होंने इस गाउन को तैयार करने का आर्डर ग्रीस की एक कंपनी को दिया. इस गाउन का कपड़ा बनाने में फैक्ट्री को 3 माह का समय लगा. इसके लिए फैक्ट्री ने 1 हजार मीटर के 7 रोल तैयार किए. जिसके बाद गाउन का दूसरा हिस्सा तैयार किया गया. इस गाउन को ट्रक की मदद से मैदान में लाया गया था. इसे मैरिज गार्डन में 6 घंटे में बिछाने के लिए 30 लोगों की मदद ली गई थी.

Courtesy 

अपने गाउन को संभालने और इसे बनाने में मदद करने वाले लोगों का धन्यवाद देते हुए मारिया ने कहा, ‘बिना लोगों की मदद के यह करना संभव नहीं था. गॉउन को जो हिस्सा चेहरे को कवर कर रहा था इसी से ही बाकी ड्रेस जुड़ी हुई थी. मौके पर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स की टीम ने प्रोफेशनल सर्वेयर की मदद से गॉउन को मापा. इसकी लंबाई नापने वाले टेप को सिविल इंजीरियर की मदद से तैयार कराया गया था.’

Published by Chanchala Verma on 13 Feb 2019

Related Articles

Latest Articles