असल जिंदगी में स्मिता पाटिल को रोल मॉडल मानती थीं नूतन, अपने फ़िल्मी सफर में जीते कई अवार्ड्स

Get Daily Updates In Email

फ़िल्म इंडस्ट्री में ऐसे कई स्टार्स हैं जो कि अपनी अदाकारी से एक अलग ही छाप छोड़ चुके हैं. इन स्टार्स में अपने समय की मशहूर एक्ट्रेस नूतन का नाम भी शामिल है. उन्होंने अपने करियर में कई बेहतरीन फिल्में की हैं. बताते चलें आज नूतन की पुण्यतिथि है. 4 जून 1936 को मराठी परिवार में जन्मीं नूतन के पिता एक जाने-माने डायरेक्टर और कवि रहे हैं. वहीं उनकी मां शोभना समर्थ भी पॉपुलर एक्ट्रेस रह चुकी हैं. जिससे यह साफ है कि कला उनमें बचपन से ही है. पंचगनी के एक कॉन्वेंट स्कूल से पढ़ाई पूरी करने के बाद हायर एजुकेशन के लिए स्विटज़रलैंड चली गईं. इसके बाद 1 साल बाद वे वापस लौट आईं. अपने इस विदेश सफर के बाद नूतन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि, ‘विदेश में बिताये गए वो एक साल उनके जीवन का सबसे यादगार साल रहा.’

विदेश जाने से पहले भी नूतन ने कुछ फिल्मों में काम किया लेकिन वे सफल नहीं हो पाई थीं. अपनी मां के निर्देशन में बनी फिल्म ‘हमारी बेटी’ से नूतन ने महज 14 साल की उम्र में ही डेब्यू कर लिया था. साल 1952 में नूतन को मिस इंडिया पीजेंट चुना गया था.

उनके करियर का सबसे बड़ा ब्रेक उन्हें साल 1955 में आई फ़िल्म ‘सीमा’ में मिला था. इसके लिए उन्हें फ़िल्मफेयर पुरस्कार भी मिला था. जिसके बाद से उन्होंने एक के बाद एक कई हिट फ़िल्में दीं. इसके बाद आई ‘बंदिनी’ फिल्म उनके लिए लकी साबित  हुई.

70के दशक में सुपरहिट फ़िल्में देने के बाद उन्होंने साल 1959 में नेवी के लेफ्टिनेंट कमांडर रजनीश बहल से शादी कर ली थी. जिनसे उनका एक बेटा है मोहनीश बहल जो कि  पेशे से एक्टर हैं. शादी के बाद और बेटे के जन्म के बाद भी नूतन ने अपने करियर में कई अवार्ड्स जीते. ‘सीमा’, ‘सुजाता’, बंदिनी’, ‘मिलन’ और ‘मैं तुलसी तेरे आंगन की’ फिल्मों के लिए उन्हें बेस्ट एक्ट्रेस का फ़िल्मफेयर अवार्ड भी मिल चुका है. बता दें नूतन स्मिता पाटिल को रोल मॉडल मानती थीं.

उनकी फिल्मों के कई गाने आज भी लोगों की जुबां पर हैं.

Published by Chanchala Verma on 21 Feb 2019

Related Articles

Latest Articles