इंदौर का 56 दुकान मार्केट बना देश का दूसरा क्लीन स्ट्रीट फूड हब, अहमदाबाद की कांकरिया झील पहले पर

Get Daily Updates In Email

मध्यप्रदेश का इंदौर शहर लगातार दो बार देश में सफाई के लिए अव्वल आ चुका है. अहिल्याबाई की नगरी का अब फिर से एक बार और गौरव बढ़ा है. दो बार स्वच्छता का तमगा हासिल करने वाले इंदौर में स्थित 56 दुकान बाजार ने अब शहर का मान बढ़ाया है. दरअसल शहर के 56 दुकान बाजार को देश में दूसरा ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ घोषित किया गया है.

दिल्ली के सेंट्रल पार्क में भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण के कार्यक्रम में इसके लिए खाद्य व औषधि विभाग के अधिकारियों को अवॉर्ड दिया गया. अहमदाबाद की कांकरिया झील को अक्टूबर 2018 में देश का पहला क्लीन स्ट्रीट फूड हब का अवॉर्ड मिला था और अब इंदौर की 56 दुकान को दूसरा अवॉर्ड मिला है.

सोमवार को इसके लिए दिल्ली में अवार्ड दिया गया. यह जानकारी खाद्य निरीक्षक हिमानी सोनपाटकी ने सोमवार को मीडिया को दी. उन्होंने कहा कि इस सम्मान का श्रेय विभाग के साथ-साथ 56 दुकान मार्केट के सभी दुकान संचालकों को जाता है. जिन्होंने मार्केट में कचरे का निस्तारण, साफ-सफाई का ध्यान, कुकिंग और नॉन कुकिंग एरिया का निर्धारण करना, स्ट्रीट लाइट, पेस्ट कंट्रोल और आसपास सफाई का स्तर आदि का ध्यान रखा है.

फूड सेफ्टी अधिकारी कैलाश वास्केल ने बताया कि देश में स्ट्रीट फूड को लेकर साफ-सफाई बरतने और विरासत को सहेजने की एक मुहिम है. भारतीय फूड को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति दिलाना भी इस पहला का हिस्सा है. 56 दुकान मार्केट की सभी दुकानों के शेफ, कर्मचारी एक जैसी यूनिफॉर्म में नजर आ रहे हैं. यहां मिलने वाली खाद्य वस्तुएं सिर्फ आरओ के पानी में ही पकाई जा रही हैं. जिससे लोगों को किसी प्रकार की बीमारी ना हो. हर दुकान के बाहर एक जैसे खाद्य सुरक्षा और स्टैंडर्ड की जानकारी देने वाले बोर्ड लगाए गए हैं.

केंद्र की तरफ से आने वाली टीम के ऑडिट के बाद इसकी रिपोर्ट के आधार पर ही 56 दुकान को ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ का दर्जा मिला है. देश में स्ट्रीट फूड को लेकर साफ-सफाई बरतने और विरासत को सहेजने की एक मुहिम चलाई गई है. इसका लक्ष्य स्ट्रीट फूड कॉन्सेप्ट में जरूरी बदलाव लाना है जिससे देश और विदेश के टूरिस्ट भी ऐसे फूड को एन्जॉय कर सकें.

Published by Yash Sharma on 25 Feb 2019

Related Articles

Latest Articles