एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली विकलांग महिला की बायोपिक में नजर आएंगी आलिया भट्ट

Get Daily Updates In Email

आलिया भट्ट फिल्म इंडस्ट्री की ऐसी एक्ट्रेस हैं जो कि बहुत कम समय में अपनी काबिलियत की वजह से इंडस्ट्री में अपना अच्छा खासा नाम कर चुकी हैं. आखिरी बार आलिया को फिल्म ‘गली बॉय’ में देखा गया है जिसके लिए उनकी खूब तारीफ की जा रही है. आलिया की सभी फ़िल्में देखना दर्शक बहुत पसंद करते हैं. वह अपने हर किदार को बखूबी निभाती हैं. एक्ट्रेस ने अपनी आने वाली फिल्म ‘ब्रम्हास्त्र’ की शूटिंग भी पूरी कर ली है जिसमें वे रणबीर कपूर के साथ नजर आने वाली हैं. इसके अलावा आलिया ‘तख़्त’ और ‘कलंक’ फिल्म में भी नजर आने वाली हैं.

इन फिल्मों के अलावा भी आलिया ने एक और बायोपिक फिल्म साइन की है और यह बायोपिक है अरुणिमा सिन्हा की. बायोपिक के चलते दौर में अब आलिया भी बायोपिक फिल्म करने जा रहा है कि इस फिल्म के लिए आलिया ने हां कह दिया है. बात करें अरुणिमा सिन्हा को तो वह एक नेशनल वॉलीबॉल प्लेयर थीं. जो कुछ लुटेरों से लड़ते हुए चलती ट्रेन से गिर गई थीं. जिस वजह से उन्हें अपना एक पैर खोना पड़ा था लेकिन उन्होंने फिर भी हिम्मत नहीं हारी और एक साल के अंदर ही वह एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली दिव्यांग महिला बन गईं.

कहा जा रहा है कि फिल्म ‘बॉर्न अगेन ऑन द माउंटेन: ए स्टोरी ऑफ लूजिंग एवरीथिंग ऐंड फाइंडिंग बैक’ नाम की बुक पर बेस्ड होगी. इस फिल्म को करण जौहर और विवेक रंगाचारी प्रोड्यूस करने वाले हैं. इस फिल्म में अरुणिमा के किरदार को अच्छे तरीके से निभाने के लिए आलिया को वजन बढ़ाने की नसीयत दी गई है. फिल्म के लिए आलिया को दिव्यांग व्यक्ति के साथ सख्त ट्रेनिंग करवाई जाएगी और फिल्म के शुरुआती सीन लखनऊ में फिल्माए जाएंगे.

View this post on Instagram

ब्राइड्ज़ मेड💙

A post shared by Alia 🌸 (@aliaabhatt) on

अरुणिका सिन्हा का एवेरेस्ट पर चढ़ने तक का सफर बहुत ही कठिन था. अपना लक्ष्य पूरा करने के बाद अरुणिमा ने कहा था, ‘मैंने जब एवरेस्ट पर फतह की थी तब मैं दोनों हाथ ऊपर उठाकर जोर से चिल्लाना चाहती थी और उन सभी लोगों को यह कहना चाहती थी कि देखो मैंने कर दिखाया. उन सभी लोगों को, जिन्होंने मुझे पागल कहा, विकलांग कहा और यह भी कहा कि एक औरत होकर मैं ऐसा नहीं कर पाऊंगी.’

बता दें अरुणिमा अपने कृत्रिम पैर के सहारे एवरेस्ट के साथ-साथ किलिमंजारो (अफ्रीका), एल्ब्रुस (रूस), कास्टेन पिरामिड (इंडोनेशिया), किजाश्को (आस्ट्रेलिया) और माउंट अकंकागुआ (दक्षिण अमेरिका) की पर्वत चोटियों पर भी चढ़ाई कर चुकी हैं.

Published by Chanchala Verma on 07 Mar 2019

Related Articles

Latest Articles