डायरेक्शन के क्षेत्र में कदम रखते ही एक्टिंग छोड़ देंगे आमिर, फ़िलहाल कर रहे अभिनय को एन्जॉय

Get Daily Updates In Email

बॉलीवुड एक्टर आमिर खान इंडस्ट्री से परफेक्शनिस्ट के नाम से जाने जाते हैं. भले ही आमिर खान एक साल में कम ही फिल्में करते हैं लेकिन अपनी हर एक फिल्म के लिए वह खूब तारीफें बटोरते हैं. बताते आखिरी बार आमिर खान को फिल्म ‘ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान’ में देखा गया था. बड़े बजट में बनी इस फिल्म में आमिर के साथ अमिताभ बच्चन, कटरीना कैफ और फातिमा सना शेख लीड रोल में थे. यह साल ही मोस्ट अवेटेड फिल्मों में से एक थी लेकिन रिलीज़ के बाद यह दर्शकों को कुछ खास पसंद नहीं आई.

इसके बाद अब आमिर खान अपनी नई फिल्म ‘लाल सिंह चड्ढा’ को लेकर सुर्ख़ियों में हैं. अपने 54वें बर्थडे के मौके पर आमिर ने बताया था कि वे ‘लाल सिंह चड्ढा’ नाम की फिल्म में काम करने जा रहे हैं. यह फिल्म 25 साल पहले आई हॉलीवुड एक्टर टॉम हैंक्स की लोकप्रिय फिल्म ‘फॉरेस्ट गंप’ का भारतीय रीमेक है.

रिपोर्ट्स की माने तो इस फिल्म के लिए आमिर खान 20 किलो तक वज़न घटाने वाले हैं. इसी के लिए वह फरवरी में ही अमेरिका पहुंच चुके थे और आमिर ने न्यूयॉर्क के मशहूर ट्रेनर जेफ के साथ एक्सरसाइज भी की थी. यह बात तो हम सभी जानते हैं कि जो भी किरदार आमिर खान निभाते हैं उसके लिए वह अपना 100 परसेंट देते हैं.

इसी के साथ आमिर खान ने यह भी कहा था कि वह फिल्म मेकिंग के लिए एक्टिंग भी छोड़ सकते हैं. जी हां, रिपोर्ट्स की माने तो जिस दिन आमिर पूरी तरह से डायरेक्शन और फिल्म मेकिंग के क्षेत्र में अपने आपको उतार लेंगे, उसी दिन से वे एक्टिंग छोड़ देंगे.’

इसे लेकर आमिर ने कहा, ‘मैं फिल्म मेकिंग की तरह काफी आकर्षित हूं और मैंने तारे जमीं पर डायरेक्ट भी की. मैं फिल्म मेकिंग और एक्टिंग को अलग नहीं कर सकता लेकिन मैं ये कह सकता हूं कि मैंने अपने करियर की शुरुआत एक एक्टर के तौर पर की थी और ये मुझे आकर्षित करता है. जिस दिन मैं पूरी तरह से डायरेक्टर बनने का फैसला ले लूंगा, मैं उस दिन से एक्टिंग छोड़ दूंगा. फिलहाल के लिए मैं एक्टिंग छोड़ना नहीं चाहता हूं इसलिए मैं अपने दिल में डायरेक्टर बनने के सपने को दबाए बैठा हूं.’

बताते चलें ‘लगान’, ‘सीक्रेट सुपरस्टार’, ‘दंगल’, ‘तलाश’, ‘दिल्ली बेली’, ‘पीपली लाइव’, ‘धोबी घाट’ और जाने तू या जाने ना’ जैसी फिल्मों को आमिर प्रोड्यूस कर चुके हैं. आमिर ने आगे कहा कि, ‘मुझे नहीं पता कि मैं किस स्पीड से फिल्में बनाऊंगा. आमतौर पर लोग अपने प्रोडक्शन हाउस के लिए फिल्में बनाते हैं क्योंकि उन्हें बिजनेस करना होता है. ये हमारा पहला एजेंडा नहीं है. क्रिएटिविटी हमारा एजेंडा है. जब तक हमें अच्छी स्क्रिप्ट नहीं मिलेगी हम उसे फिल्म में तब्दील नहीं कर पाएंगे.’

Published by Chanchala Verma on 18 Mar 2019

Related Articles

Latest Articles