बर्थडे : संघर्षों से भरा था भजन सम्राट गुलशन का जीवन, कभी किया करते थे जूस की दूकान पर काम

Get Daily Updates In Email

मशहूर भजन गायक गुलशन कुमार का जन्म 5 मई, 1951 को हुआ था. गुलशन कुमार ने संगीत को नई पहचान दी थी. अपना संघर्षपूर्ण जीवन बिताने के बाद अपने संगीत और उसके प्रति लगन से उन्होंने एक खास मुकाम हासिल किया. आइए उनकी जन्मतिथ‍ि पर जानते हैं उनके जीवन से जुड़े कुछ खास किस्से.

गुलशन कुमार शुरुआती समय में अपने पिता के साथ दिल्ली की दरियागंज मार्केट में जूस की दुकान चलाते थे. इसके बाद यह काम छोड़ उन्होंने दिल्ली में ही कैसेट्स की दुकान खोली जहां वह सस्ते में गानों की कैसेट्स बेचते थे. इसके बाद उन्होंने धीरे-धीरे अपना खुद का सुपर कैसट इंडस्ट्री नाम से ऑडियो कैसट्स ऑपरेशन खोला. जिसके बाद उन्होंने नोएडा में खुद की म्यूजिक प्रोडेक्शन कंपनी खोली और बाद में मुंबई शिफ्ट हो गए.

इतने बड़े कलाकार होने के बावजूद भी वह हमेशा जमीन से जुड़े रहे. गुलशन कुमार ने अपनी उदारता भी खुलकर दिखाई. उन्होंने अपने धन का एक हिस्सा समाज सेवा के लिए दान किया. इतना ही नहीं गुलशन ने वैष्णो देवी में एक भंडारे की स्थापना की जो आज भी तीर्थयात्रियों के लिए भोजन उपलब्ध कराता है.

गुलशन कुमार 1992-93 में सबसे ज्यादा टैक्स देने वालों में से थे. गुलशन कुमार ने टी-सीरीज के कैसेट के जरिए संगीत को घर-घर पहुंचाने का काम किया. वह अपनी मेहनत, दूर-दृष्टि और जज्बे से संगीत उद्योग को काफी आगे ले गए. उन्होंने सोनू निगम जैसे कई गायकों को ब्रेक देकर उनके करियर में अहम योगदान दिया. टी-सीरीज आज भी सबसे प्रसिद्ध म्यूजिक प्रोडेक्शन कंपनी है.

मशहूर सिंगर अनुराधा पौडवाल को गुलशन कुमार की पसंदीदा गायिका कहा जाता था. हर जगह और हर मामले में गुलशन कुमार अनुराधा पौडवाल को सपोर्ट करने लगे थे. जिससे इंडस्ट्री में दोनों के अफेयर की भी चर्चा होने लगी थी. हालांकि इस पर किसी ने भी खुलकर कुछ नहीं कहा था. गुलशन कुमार के जाने के बाद उनके बेटे भूषण कुमार ने सुपर कैसेट्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड की ज़िम्मेदारी संभाल ली और उनकी बेटी तुलसी कुमार भी एक जानी-मानी सिंगर हैं.

Published by Yash Sharma on 05 May 2019

Related Articles

Latest Articles