गजल किंग पंकज उधास की आवाज़ आज भी है कायम, पहले गाने में इनाम के तौर पर मिले थे 51 रुपए

Get Daily Updates In Email

बॉलीवुड के गायक और गजल किंग के नाम से अपनी पहचान बना चुके पंकज उधास का जन्म 17 मई 1951 में गुजरात के राजकोट के पास जेतपुर में हुआ था. उन्होंने अपने लाइफ का पहला गाना अपने बड़े भाई के साथ स्टेज पर गाया था. संजय दत्त की फिल्म नाम में गाई गई गजल ‘चिट्ठी आई है’ से लोगों को रुलाने वाली पंकज उधास की आवाज का जादू आज भी बरकरार है. पंकज ने अपनी शिक्षा के लिये जेवियर्स कॉलेज में एडमिशन लिया और विज्ञान स्नातक की डिग्री के साथ साथ समय निकाल कर गायन का अभ्‍यास भी करते रहे.

बता दें कि पंकज के पिता एक किसान थे और उनके घर में उनके अलावा दो दोनों भाई भी गायक हैं. पंकज को जो प्रसिद्धि मिली उसमें उनका स्ट्रगल कहीं छिप गया. बहुत कम लोग ये जानते हैं कि पंकज उधास ने पहला एल्बम आहट 18000 रुपए उधार लेकर निकलवाया था. इस एलबम ने पंकज उधास को आगे काम दिलवाया और वह बॉलीवुड के बेहतरीन सिंगर्स में से एक बने.

पंकज उधास के बड़े भाई एक्‍टर थे, जिसकी वजह से इनकी गीत संगीत में रुची बढ़ी. पंकज उधास ने अपना पहला गाना भारत-चीन युद्ध के दौरान गाया था. जो कि ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ था. इस गाने के लिये उन्‍हें एक दर्शक ने प्राइज के तौर पर 51 रुपए का इनाम दिया था. यह गाना लोगों के दिलों को इतना छू गया कि उनके आंखों से आंसू आने लगे.

View this post on Instagram

Wid Popular Ghazal Kalakar #pankajudhas 🤩

A post shared by 😎Proud To Be An Indian😎 (@mr.branded_kamina.031) on

पकंज उधास ने 70 के दशक में पहली बार एयरहोस्टेस फरीदा को देखा था और पहली नजर में ही उन्हें दिल दे बैठे थे. उस समय पंकज ग्रेजुएशन कर रहे थे और फरीदा एयरहोस्टेस थीं. इस दौरान दोनों में दोस्ती हुई और दोनों एक दूसरे को डेट करने लगे. इस बीच पंकज के तीन एल्बम रिलीज हुए और पंकज गायकी की दुनिया में फेमस हो गए थे. जिसके बाद उन्हें फरीदा के पापा से उनका हाथ मांगा. फरीदा के पिताजी ने भी आराम से दोनों के रिश्ते के लिए हां कर दी और दोनों ने शादी कर ली. इसके बाद पंकज और फरीदा ने 11 फरवरी, 1982 को शादी की थी.

Published by Yash Sharma on 17 May 2019

Related Articles

Latest Articles